HomePublic Issueनाला निर्माण कार्य में बाधा बने कुछ पेड़ों को काटा जाएगा तो...

नाला निर्माण कार्य में बाधा बने कुछ पेड़ों को काटा जाएगा तो कुछ को किया जाएगा ट्रांसप्लांट

Published on

शहर को प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए एक और अनेक कार्य किए जा रहे हैं वहीं दूसरी और पेड़ों को काटना भी मजबूरी हो गया है। क्योंकि बरसाती पानी की निकासी के लिए बनाए जा रहे नालों में यह पेड़ बाधा बने हुए हैं।

नीलम चौक रेलवे रोड पर करीब डेढ़ साल पहले बरसाती पानी की निकासी के लिए नाले बनाने का काम शुरू किया गया था। लेकिन वर्षो पुराने फिर नालों के निर्माण में बाधा बने हुए थे जिन्हें अब काटा जा रहा है।

नाला निर्माण कार्य में बाधा बने कुछ पेड़ों को काटा जाएगा तो कुछ को किया जाएगा ट्रांसप्लांट

नालों के निर्माण कार्य में बाधा बने वर्षों पुराने पेड़ों को काटने के लिए वन विभाग द्वारा मंजूरी ली गई है। इनमें से कुछ पेड़ों को ना काटकर ट्रांसप्लांट किया जाएगा। ज्ञात है कि बरसात के दिनों में लोगों को जलभराव जैसी समस्या से जूझना पड़ता है।

जिस से निजात पाने के लिए फरीदाबाद स्मार्ट सिटी लिमिटेड की ओर से जगह जगह सीमेंटेड नालों का निर्माण किया जा रहा है। लेकिन कुछ पेड़ इन में बाधा बने हैं जिन्हें अब काटने व ट्रांसप्लांट की मंजूरी वन विभाग से मिल गई है।

नाला निर्माण कार्य में बाधा बने कुछ पेड़ों को काटा जाएगा तो कुछ को किया जाएगा ट्रांसप्लांट

नीलम रेलवे रोड पर डेढ़ साल पहले निर्माण का कार्य शुरू हो चुका था। एनआईटी क्षेत्र के नालों का निर्माण कार्य ठेका एंड कंपनी कर रही है। ठेका एंड कंपनी ने खाली जगहों में नाले बना दिए जबकि जहां पर खड़े थे उन जगहों पर निर्माण कार्य रोक दिया।

फरीदाबाद स्मार्ट सिटी लिमिटेड के अधिकारियों का कहना है कि नाले का निर्माण कार्य बाधा बने पेड़ों की कटाई की मंजूरी के लिए वन विभाग के फैसले पर अटका था जिसकी अब मंजूरी मिल चुकी है।

नाला निर्माण कार्य में बाधा बने कुछ पेड़ों को काटा जाएगा तो कुछ को किया जाएगा ट्रांसप्लांट

लगभग 100 पेड़ नाला निर्माण कार्य में बाधा बने हुए थे। अब मंजूरी मिलने के बाद कुछ पेड़ों को काटा जाएगा तो कुछ को ट्रांसप्लांट किया जाएगा। पेड़ों की कटाई मामले पर शहर के पर्यावरण विदों ने नाराजगी जताई है। सेव अरावली संस्था के जितेंद्र भढ़ाना का कहना है कि एक ओर तो शहर देश के प्रदूषित शहरों की सूची में 11वीं स्थान पर पहुंच गया है वहीं दूसरी ओर पेड़ों को काटे जाने से लोग जहरीली हवा में सांस लेने को मजबूर हैं।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...