Online se Dil tak

मुस्लिम बहू ने सास के गुम होने पर भगवान शिव से की प्रार्थना

ईश्वर एक है यह कहावत तो सबने सुनी ही होगी। इस कहावत को एक मुस्लिम परिवार की बहू ने सच भी कर दिखाया है। फरीदाबाद में एक 74 वर्षीय बुजुर्ग के गुम हो जाने के बाद बुजुर्ग महिला की बहू ने न केवल 5 टाइम की नमाज पढ़ी.

बल्कि मंदिर जाकर भगवान शिव से भी अपनी सास के मिल जाने की प्रार्थना की। सास के मिलने के बाद उन्होंने मंदिर जाकर प्रसाद वितरण कर भगवान शिव का धन्यवाद करने की बात भी कहीं है।

मुस्लिम बहू ने सास के गुम होने पर भगवान शिव से की प्रार्थना
मुस्लिम बहू ने सास के गुम होने पर भगवान शिव से की प्रार्थना

दरअसल बुजुर्ग महिला का परिवार किराए के मकान में रहते है। उन्होंने अभी कुछ समय पहले ही मकान शिफ्ट किया है। एक तो बुजुर्ग महिला बोल भी नहीं पाती है दूसरी ओर जगह अनजान होने के कारण अपने घर का पता नहीं बता पाई और रास्ता भटक गई।

लोगों ने इसकी सूचना पुलिस दी। जिसके बाद पुलिस ने महिला को फरीदाबाद के सिविल अस्पताल बादशाह खान में स्थित वन स्टॉप सेंटर में रखवा दिया तथा उनके घरवालों की खोज करने लगी।

मुस्लिम बहू ने सास के गुम होने पर भगवान शिव से की प्रार्थना
मुस्लिम बहू ने सास के गुम होने पर भगवान शिव से की प्रार्थना

बुजुर्ग महिला के खो जाने की सूचना स्टेट क्राइम की टीम को भी दी गई। क्राइम टीम के एएसआई अमरसिंह ने बुजुर्ग महिला की वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल कर महिला को पहचानने की अपील की।

वीडियो वायरल हो जाने के बाद महिला की पोती के घर वालों ने वीडियो व्हाट्सएप पर देखी और बुजुर्ग महिला को पहचान लिया। एएसआई अमरसिंह से संपर्क किया गया और वन स्टॉप सेंटर जाकर बुजुर्ग महिला को उनके बेटे व बहू को सौप दिया गया।

मुस्लिम बहू ने सास के गुम होने पर भगवान शिव से की प्रार्थना
मुस्लिम बहू ने सास के गुम होने पर भगवान शिव से की प्रार्थना

महिला के खो जाने पर उनका बेटा उन्हें पागलों की तरह तलाश कर रहा था। उनकी बहू भी पांचों टाइम की नमाज के साथ – साथ मंदिर जाकर भी उन मिल जाने की प्रार्थना भगवान शिव से करती रही। अब उनके मिल जाने पर वे मंदिर जाकर प्रसाद भी चढ़ाएंगे।

उनका कहना है कि उनका परिवार हिन्दू – मुस्लिम दोनों धर्मों को मानता है व सम्मान भी करता है। वे नमाज भी पढ़ते हैं और मंदिर जाकर पूजा भी करते हैं। उनके अनुसार ईश्वर एक ही है भले ही नाम व उनके रहने की जगह अलग हैं। इंसानों ने नहीं बल्कि धर्म के ठेकेदारों ने धर्मों को बांट रखा है।

Read More

Recent