Pehchan Faridabad
Know Your City

हरियाणा के बीजेपी मंत्री से उलझने वाली आईपीएस संगीता की वो संघर्षपूर्ण बातें, क्यों न उन्हीं से जाने

वैसे तो हमारे समाज में बेटा हो या बेटी सब को एक समान अधिकार दिया जा रहा है, और यही कारण है कि आज बेटों से ज्यादा बेटियों ने समाज से लेकर भारत में अपना परचम और दमखम दिखाने में कोई कोर कसर बाकी नहीं छोड़ी है। आज की नारी सशक्त नारी है, और इसमें कोई दो राय नहीं है

कि वह ना सिर्फ न सिर्फ घर परिवार बल्कि समाज सेवा में भी अपनी पूरी निष्ठा और ईमानदारी दिखा सकती है। एक समय था जब महिलाओं को कमजोर माना जाता है मगर आज यह गलतफहमी दूर हो जाती है

आईपीएस संगीता की बहादुरी देखकर चलिए जानते हैं कौन है यह संगीता और कैसे आज हम इनके बारे में इतने विस्तार से आपको बता रहे हैं।

जन्म से लेकर शिक्षा ग्रहण करने तक का सफर

महिलाााा आईपीएस संगीता ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक मंत्री से उलझने के बाद काफी सुर्खियों में रही थीं। हरियाणा के भिवानी जिले की रहने वाली संगाती कालिया का जन्म एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ।

संगीता कालिया के पिता धर्मपाल फतेहाबाद पुलिस विभाग में ही कारपेंटर थे। भिवानी से ही पढ़ाई-लिखाई करने वाली संगीता कालिया के बारे में कहा जाता है कि वो बचपन के दिनों से पढ़ाई-लिखाई में काफी तेज-तर्रार थी।

पिता का सपना पूरा करने के लिए संगीता ने दिन रात मेहनत

संगीता के पिता अपनी बेटी को पढ़ा-लिखा कर अफसर बनाना चाहते थे और संगीता अपने पिता के सपने को पूरा करने के लिए जी-तोड़ मेहनत करती थीं। पढ़ाई पूरी करने के बाद संगीता ने सिविल सर्विसेज की तैयारी की

। सिविस सर्विस की पहली परीक्षा उन्होंने साल 2005 में दी, हालांकि उनका चयन नहीं हो सका था। साल 2009 में संगीता ने फिर से यूपीएससी का एग्जाम दिया। इस बार वह सफल रही। उन्हें हरियाणा में आईपीएस कैडर मिला। संयोग ऐसा रहा ट्रेनिंग के बाद उन्हें उसी जिले का एसपी बनाया गया जहां कभी उनके पिता कारपेंटर हुआ करते थे।

उड़ान सीरियल को देखकर उन्हें मिली थी प्रेरणा

संगीता कालिया ने एक बार कहा था कि टीवी पर आने वाली धारावाहिक उड़ान को देखने के बाद उन्हें सिविल सर्विस की प्रेरणा मिली

बताया जाता है कि होनहार संगीता कालिया की नौकरी रेलवे में हुई थी। लेकिन सिविल सर्विस में नौकरी का सपना रखने वाली संगीता कालिया ने रेलवे की नौकरी छोड़ दी थी। इसी तरह उन्होंने कुल 6 नौकरियां छोड़ी थी।

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से भिड़ी थी संगीता

फतेहाबाद में महिला थाना की बिल्डिंग बनवाने का श्रेय भी एसपी संगीता कालिया को ही जाता है। इसके अलावा कई ब्लाइंड मर्डर केस भी उनके नेतृत्व में फतेहाबाद पुलिस ने सुलझाएं हैं।


साल 2015 में जब संगीता कालिया फतेहाबाद में पुलिस अधीक्षक के तौर पर तैनात थीं तब उनकी हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के साथ बहस हो गई थी। अनिल विज वहां के कष्ट निवारण समिति के अध्यक्ष थे।।

बैठक में संगीता के ना पहुंचने पर हुआ था विवाद

जिनकी 27 नवंबर 2015 को एक शिकायत की सुनवाई के दौरान विज ने कालिया को गेट आउट कह दिया था।

कालिया बाहर नहीं गई तो विज को खुद बैठक छोड़नी पड़ी थी। बाद में कालिया का तबादला कर दिया गया था। इसके बाद साल 2018 में भी अनिल विज के साथ एक बैठक में संगीता कालिया नहीं आई थीं। इसे लेकर भी काफी विवाद हुआ था।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More