Pehchan Faridabad
Know Your City

औद्योगिक संगठन फरीदाबाद ने सांसद कृष्णपाल गुर्जर को पीएम केयर के लिए प्रदान की 3 करोड़ की राशि

क्षेत्र के प्रमुख औद्योगिक संगठन फरीदाबाद इंडस्ट्रीज एसोसिएशन ने केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्ण पाल गुर्जर द्वारा जारी किए गए वीडियो में किए गए आहवान उपरांत 3 करोड़ रुपए का योगदान प्रधानमंत्री राहत कोष में दिया है।गुर्जर के निवास पर पहुंच संगठन के सदस्यों ने 27 लाख रुपए का प्रदान किए गए

जबकि 2 करोड़ 73 लाख रुपए की राशि सदस्यों द्वारा ट्रांसफर की जा चुकी है जिस की सूची केंद्रीय मंत्री को दी गई।इस मौके पर एसोसिएशन के प्रधान बीआर भाटिया ने बताया कि इस राशि के अतिरिक्त 30 लाख रुपए की राशि मुख्यमंत्री राहत कोष में दी गई है

जिसकी सूची विधायक नरेंद्र गुप्ता को दी गई। भाटिया ने बताया कि अधिकतर सदस्यों ने प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री राहत कोष में अपना सहयोग ट्रांसफर कराकर इसकी जानकारी एफ आई ए कार्यालय को प्रदान की गई, जिस की सूची उपलब्ध कराई गई है।

भाटिया ने बताया कि गुर्जर को कोरोना से लड़ने के लिए प्रधानमंत्री राहत कोष में प्रदान की गई राशि के अतिरिक्त 60 लाख से अधिक की राशि प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से फरीदाबाद इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के सदस्यों द्वारा विभिन्न चैरिटेबल सोसायटी व लंगर में सहयोग के रूप में प्रदान की जा चुकी है।

यही नहीं एफ‌आईए सदस्यों ने पीपीई किट और मास्क भी वितरित किए हैं ताकि कोरोना विरुद्ध मुहिम में सरकार व प्रशासन का सहयोग करने के साथ-साथ मानव सेवा के यज्ञ में आहुति अर्पित की जा सके।

वहीं कृष्ण पाल गुर्जर ने फरीदाबाद इंडस्ट्रीज एसोसिएशन द्वारा प्रदान की गई राहत राशि के लिए एफ आई ए की सराहना करते हुए कहा कि मौजूदा समय में जबकि उद्योग आर्थिक चुनौतियों के दौर से गुजर रहे हैं, ऐसे में भी राष्ट्र के प्रति समर्पण और मानव हितों की भावना एक अनुकरणीय उदाहरण है।

गुर्जर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र को एकजुटता के सूत्र में पिरोया है और केंद्र सरकार का प्रयास है कि कोरोना के कारण प्रभावित अर्थव्यवस्था को चुनौतियों से उबारा जाए। आपने कहा कि हाल ही में केंद्र सरकार द्वारा घोषित आर्थिक पैकेज इन्हीं प्रयासों का एक अंग है।

इस अवसर पर एसोसिएशन के पूर्व प्रधान एस के जैन, सुनील गुलाटी और इंद्रजीत चोपड़ा भी उपस्थित थे।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More