Online se Dil tak

सोशल मीडिया पर फ़ोटो व जानकारी आने के बाद भी चालान करने से पहले करते हैं पूरी तरह से पुष्टि

जैसे कि आज के समय में सभी सोशल मीडिया पर एक्टिव हैं चाहे वह पुलिस या आम जनता। पुलिस जहां सोशल मीडिया का इस्तेमाल अपने अच्छे कार्यों के लिए करती है। वहीं आम जनता सोशल मीडिया का प्रयोग अपनी परेशानियों को बताने के लिए करती है।

चाहे वह सीवर की या पानी की समस्या हो या फिर यूं कहें कि रोड पर चलने वाले वाहनों से होने वाली परेशानी ही क्यों ना हो।

सोशल मीडिया पर फ़ोटो व जानकारी आने के बाद भी चालान करने से पहले करते हैं पूरी तरह से पुष्टि
सोशल मीडिया पर फ़ोटो व जानकारी आने के बाद भी चालान करने से पहले करते हैं पूरी तरह से पुष्टि

कुछ दिनों से लगातार जिले के लोग वाहनों के द्वारा होने वाली परेशानी को लेकर सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव है। इसमें सबसे ज्यादा मुद्दा बुलेट बाइक पर चल रहा है। क्योंकि बुलेट बाइक के द्वारा जो साउंड पोलूशन किया जाता है। उससे आम जनता को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

इसी वजह से जिले के ट्रैफिक पुलिस सबसे ज्यादा बुलेट बाइक्स के ही चालान कर रही है। थाना ट्रैफिक एसएचओ राजीव का कहना है कि अगर कोई व्यक्ति सोशल मीडिया पर वाहन को लेकर कोई शिकायत दर्ज करता है। तो उसका चालान करने से पहले उस वाहन की पुष्टि की जाती है।

सोशल मीडिया पर फ़ोटो व जानकारी आने के बाद भी चालान करने से पहले करते हैं पूरी तरह से पुष्टि
सोशल मीडिया पर फ़ोटो व जानकारी आने के बाद भी चालान करने से पहले करते हैं पूरी तरह से पुष्टि

जैसे कि आजकल लोग सबसे ज्यादा बुलेट बाइक से परेशान है। इसी वजह से लोगों को जहां पर भी बुलेट बाइक के द्वारा साउंड पॉल्युशन करती हुई नजर आती है। वहां वह उसकी फोटो खींचकर सोशल मीडिया पर डाल देते हैं।

लेकिन उस फोटो के बेस पर हम किसी भी वाहन का चालान नहीं करते हैं। पुलिस के द्वारा सबसे पहले उस बाइक के नंबर से वाहन चालक के एड्रेस निकाला जाता है। उसके बाद वाहन चालक के घर जाकर उसकी बाइक को स्टार्ट करके उसकी वीडियो बनाई जाती है। अगर उसमें साउंड पोलूशन होता है।

सोशल मीडिया पर फ़ोटो व जानकारी आने के बाद भी चालान करने से पहले करते हैं पूरी तरह से पुष्टि
सोशल मीडिया पर फ़ोटो व जानकारी आने के बाद भी चालान करने से पहले करते हैं पूरी तरह से पुष्टि

तो उसका चालान किया जाता है। इसके अलावा उक्त बाइक चालक से सभी कागज मांगे जाते हैं। अगर वाहन के कागज उसके पास मौजूद नहीं होते हैं। तो मोटर व्हीकल एक्ट के तहत चालान किया जाता है।

बुजुर्ग को होती है सबसे ज्यादा परेशानी

बुलेट बाइक जब सड़कों पर चलाई जाती है, तो वाहन चालक के द्वारा पटाखे बजाए जाते हैं। जिसकी वजह से उस एरिया में रहने वाले बुजुर्गों को काफी परेशानी होती है।

क्योंकि बुजुर्ग में सबसे ज्यादा पेशेंट हॉट के होते हैं। अगर पटाखे की वजह से किसी बुजुर्ग को अटैक पड़ जाता है। तो उसकी जान भी जा सकती है इसीलिए पुलिस के द्वारा इन दिनों बुलेट बाइक पर सबसे ज्यादा कार्यवाही की जा रही है।

Read More

Recent