Online se Dil tak

भड़ाना- गुर्जर की रजामंदी से यहां तो बन गई बात, अब क्या शहर के मत्थे मढ़ा जाएगा कचरा

गांव पाली में बनने वाले डंपिंग ग्राउंड पर ग्रामीणों के विरोध के बाद केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने नगर निगम को यहां कूड़ा डालने से मना कर दिया है। डंपिंग ग्राउंड को लेकर ग्रामीण पिछले कुछ समय से विरोध कर रहे थे वही अब केंद्रीय मंत्री के आदेशों के बाद यहां पर कूड़ा नहीं डाला जाएगा।


दरअसल, जिले भर में नगर निगम द्वारा दो डंपिंग ग्राउंड बनाने के लिए जगह को चिन्हित किया गया था परंतु लोगों के विरोध के बाद इन दोनों जगहों पर ही अब डंपिंग ग्राउंड नहीं बनाया जाएगा। पाली में बनने वाले डंपिंग ग्राउंड को लेकर ग्रामीण पिछले कुछ समय से विरोध कर रहे थे वही मिर्जापुर में भी बनने वाले डंपिंग ग्राउंड का समाजसेवियों द्वारा विरोध किया गया। ‌

भड़ाना- गुर्जर की रजामंदी से यहां तो बन गई बात, अब क्या शहर के मत्थे मढ़ा जाएगा कचरा
भड़ाना- गुर्जर की रजामंदी से यहां तो बन गई बात, अब क्या शहर के मत्थे मढ़ा जाएगा कचरा

बीते दिन केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने पाली क्रेशर जोन के प्रधान धर्मबीर भड़ाना के नेतृत्व में मोहब्ताबाद, मांगर, पाखल तथा पावटा के ग्रामीण रामवीर भड़ाना, श्यामवीर भड़ाना, रणधीर भड़ाना, सरजीत भड़ाना, गिर्राज भड़ाना, आजाद भड़ाना, गजराज भड़ाना, संजय भड़ाना आदि ग्रामीणों ने केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर से मुलाकात की तथा अपनी समस्या रखी।

ग्रामीणों का कहना है कि डंपिंग ग्राउंड बनने से पूरा शहर प्रदूषित होगा क्योंकि पछुआ हवा चलने से न केवल ग्रामीण क्षेत्रों में बल्कि पूरे एनआईटी क्षेत्र में इसका असर देखने को मिलेगा। केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने ग्रामीणों को आश्वस्त करते हुए कहा कि इस बाबत जिला उपायुक्त यशपाल यादव को कहा गया है कि गांव पाली में कचरा ना डाला जाए।

भड़ाना- गुर्जर की रजामंदी से यहां तो बन गई बात, अब क्या शहर के मत्थे मढ़ा जाएगा कचरा
भड़ाना- गुर्जर की रजामंदी से यहां तो बन गई बात, अब क्या शहर के मत्थे मढ़ा जाएगा कचरा

गौरतलब है कि बंधवाडी डंपिंग ग्राउंड की सीमा पूरी हो चुकी है जिसको लेकर नगर निगम ने शहर के दो क्षेत्रों को चिन्हित किया था परंतु दोनों में से किसी भी क्षेत्र में डंपिंग बनाने की योजना सिरे नहीं चढ़ पाई।

ऐसे में यह सोचने वाला विषय है कि यदि इन दोनों क्षेत्रों में डंपिंग ग्राउंड का निर्माण नहीं होगा तो शहर के किस हिस्से को डंपिंग ग्राउंड के लिए चुना जाएगा।

Read More

Recent