Online se Dil tak

बाबा रामदेव की पतंजलि ने जनता से मांगे 250 करोड़ रुपये, 3 मिनट में ही मिल गए

बाबा रामदेव की पतंजलि ने जनता से मांगे 250 करोड़ रुपये, 3 मिनट में ही मिल गए :- बाबा रामदेव के नेतृत्व वाली पतंजलि आयुर्वेद ने बॉन्ड मार्केट निवेशकों से 250 करोड़ रुपये की मांग की। निवेशकों से कंपनी को 3 मिनट के भीतर मिले 250 करोड़ रु

पतंजलि आयुर्वेद ने वास्तव में 250 करोड़ रुपये की गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर (एनसीडी) जारी की थी। यह निवेशकों द्वारा लिया गया था और 3 मिनट के भीतर कंपनी की यह डिबेंचर पूरी तरह से सब्सक्राइब हो गई थी।

बाबा रामदेव की पतंजलि
बाबा रामदेव की पतंजलि ने जनता से मांगे 250 करोड़ रुपये, 3 मिनट में ही मिल गए

पहली बार, हरिद्वार मुख्यालय वाली कंपनी पतंजलि आयुर्वेद ने पूंजी जुटाने के लिए बांड बाजार का उपयोग किया है। ब्रिकवर्क ने इस डिबेंचर को एए रेटिंग दी, जिसे अच्छा माना जाता है। इसे शेयर बाजार में सूचीबद्ध किया जाएगा। यह गुरुवार को जारी किया गया था।

गौरतलब है कि हाल ही में रिलायंस इंडस्ट्रीज, टाटा स्टील, एचडीएफसी बैंक, महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी कई कंपनियों ने बॉन्ड मार्केट से पैसा जुटाया है।

बाबा रामदेव की पतंजलि
बाबा रामदेव की पतंजलि ने जनता से मांगे 250 करोड़ रुपये, 3 मिनट में ही मिल गए

एक गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर क्या है

गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर (एनसीडी) वित्तीय साधन हैं जो कंपनियां दीर्घकालिक पूंजी जुटाने के लिए जारी करती हैं। यह एक निश्चित अवधि के लिए है। इसलिए यह एफडी की तरह है, लेकिन यह शेयर बाजार में सूचीबद्ध है, इसलिए इससे बाहर निकलना आसान है। इसमें ब्याज भी 10 प्रतिशत या उससे अधिक है। गैर-परिवर्तनीय का अर्थ है कि इस डिबेंचर को शेयरों में परिवर्तित नहीं किया जा सकता है।

पतंजलि के प्रवक्ता एस के तिजारावाला ने समाचार एजेंसी को बताया, “कोरोना महामारी के बीच आयुर्वेद आधारित उत्पादों की बिक्री में तीन गुना वृद्धि हुई है। लेकिन कोरोना के कारण विनिर्माण से वितरण तक आपूर्ति श्रृंखला में व्यवधान उत्पन्न हुए हैं।

उन्होंने कहा, “हम इस फंड को बढ़ा रहे हैं ताकि हम अपनी आपूर्ति श्रृंखला को मजबूत कर सकें और विनिर्माण से वितरण तक की प्रक्रिया को सुचारू बनाया जा सके।”

बाबा रामदेव की पतंजलि ने जनता से मांगे 250 करोड़ रुपये, 3 मिनट में ही मिल गए
बाबा रामदेव की पतंजलि ने जनता से मांगे 250 करोड़ रुपये, 3 मिनट में ही मिल गए

क्या ब्याज मिलेगा

बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद हाल के वर्षों में एफएमसीजी की प्रमुख कंपनी बनकर उभरी है। कंपनी ने कहा है कि गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर (एनसीडी) की परिपक्वता अवधि तीन साल होगी और ब्याज 10.10 प्रतिशत की दर से देय होगा।

पिछले साल दिसंबर में पतंजलि आयुर्वेद ने 4,350 करोड़ रुपये की दिवालिया रुची सोया का अधिग्रहण पूरा किया। दिवाला प्रक्रिया में, पतंजलि ने सोया खाद्य ब्रांड न्यूट्रिला बनाने वाली कंपनी का अधिग्रहण किया।

बाबा रामदेव की पतंजलि ने जनता से मांगे 250 करोड़ रुपये, 3 मिनट में ही मिल गए
बाबा रामदेव की पतंजलि ने जनता से मांगे 250 करोड़ रुपये, 3 मिनट में ही मिल गए

बाबा रामदेव की पतंजलि के व्यवसाय

गौरतलब है कि बाबा रामदेव की पतंजलि समूह ने कपड़े के कारोबार में भी प्रवेश किया है। वर्ष 2018 में, धनतेरस के अवसर पर, बाबा रामदेव ने दिल्ली में पतंजलि संस्थान नाम से पहले कपड़ों की दुकान का उद्घाटन किया। रामदेव ने दिल्ली के नेताजी सुभाष प्लेस में पहले ‘पतंजलि परिधान’ शोरूम का उद्घाटन करते हुए कपड़ों का कारोबार शुरू किया।

Read More

Recent