HomeUncategorizedकैसे नजर आएगी स्कूल के विज्ञापन के पीछे लगी रेड लाइट

कैसे नजर आएगी स्कूल के विज्ञापन के पीछे लगी रेड लाइट

Published on

अप्रैल का महीना शुरु हो चुका है और शहर में आपको जगह-जगह निजी स्कूल के विज्ञापन के बोर्ड नजर आ जाएंगे। लेकिन उन बोर्ड को लगाने के लिए उनको प्रशासन से परमिशन लेनी होती है। परमिशन लेने के बाद भी उन को जगह दी जाती है कि वे इसी जगह पर अपने विज्ञापन को लगा सकते हैं।

लेकिन जिले में जगह-जगह बिना परमिशन के ही विज्ञापन लगे हुए नजर आ जाएंगे। जिससे आम जनता को कई बार परेशानी का सामना करना पड़ता है। जी हां मैं बात कर रही हूं आईएमटी चौक की। जहां पर रेड लाइट लगी हुई है और उस रेड लाइट के आगे एक निजी स्कूल के द्वारा अपने एडमिशन ओपन का विज्ञापन बोर्ड लगा दिया गया है।

कैसे नजर आएगी स्कूल के विज्ञापन के पीछे लगी रेड लाइट

जिसकी वजह से दिल्ली से पलवल की ओर जाने वाले लोगों को पता ही नहीं चलता कि उनकी रेड लाइट कब ग्रीन हो जाती है और कई बार उनकी रेड लाइट मिस भी हो जाती है। जिसकी वजह से ट्रैफिक जाम हो जाता है।

कैसे नजर आएगी स्कूल के विज्ञापन के पीछे लगी रेड लाइट

आईएमटी चौक एक चौराहा है जिसके एक तरफ तो पलवल की तरफ जाता है। दूसरा दिल्ली के तरफ। वही 1 आईएमटी इंडस्ट्रियल एरिया की ओर जाता है और दूसरा हिस्सा उसका सेक्टर 2 की तरफ जाता है। इस चौराहे पर सेक्टर 2 की तरफ एक पुलिस बूथ भी बना हुआ है। लेकिन पलवल की ओर जाने वाली रेड लाइट के आगे सेक्टर 62 स्थित आशा ज्योति विद्यापीठ पब्लिक स्कूल का विज्ञापन बोर्ड लगा हुआ है।

जिसमें उन्होंने एडमिशन ओपन के बारे में लोगों को जानकारी दे रहे हैं। लेकिन उनके द्वारा जो यह बोर्ड लगाया गया है वह रेड लाइट किस ठीक सामने लगा दिया गया है। जिसकी वजह से पलवल की ओर जाने वाले लोगों को पता ही नहीं चलता कि कब उनकी रेड लाइट ग्रीन हो जाती है। ऐसा नहीं है कि रेडलाइट एक ही लगी हुई है।

कैसे नजर आएगी स्कूल के विज्ञापन के पीछे लगी रेड लाइट

रेडलाइट दो लगी हुई है लेकिन एक रेड लाइट जो है वह ऊंची है जो कि दूर से आने वाले वाहनों चालकों को ही नजर आएगी। जिसकी वजह से पीछे वाले वाहन चालकों के द्वारा है जब हॉर्न दिया जाता है। तभी आगे वाले वाहन चलते हैं और इसकी वजह से उनकी ग्रीन लाइट रेड लाइट हो जाती है। कई बार उस चौक पर जाम लग जाता है।

पुलिस बूथ बने होने के बावजूद भी पुलिस के द्वारा उस बोर्ड को हटाया नहीं गया या फिर पुलिस ने लगाते वक्त उस पर ध्यान नहीं दिया गया। जिसकी वजह से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। अगर हम बात करें इन सभी विज्ञापनों की तो इसमें से ज्यादातर विज्ञापनों ने नगर निगम व एचएसबीपी के द्वारा परमिशन ही नहीं लिखी हुई है।

कैसे नजर आएगी स्कूल के विज्ञापन के पीछे लगी रेड लाइट

क्योंकि इन दोनों विभाग के द्वारा शहर में जगह फिक्स की गई हुई है। जहां पर वह विज्ञापन लगा सकते हैं और उनका उनको चार्ज देना पड़ता है। लेकिन स्कूल के द्वारा या फिर यूं कहें अन्य विज्ञापन जो भी शहर में लगाए जा रहे हैं। वह बिना परमिशन और बिना जगह के लगाए जा रहे हैं। क्योंकि इनमें से ज्यादा विज्ञापन तो बिजली के खंभे पर लगे हुए हैं जो कि अनऑथराइज्ड है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...