Pehchan Faridabad
Know Your City

इलेक्ट्रिक कार के बाद अब बन रही इलेक्ट्रिक रोड, जानिये देश में कहां हो रहा है ये प्रयोग

इलेक्ट्रिक वाहनों के बारे में आपने खूब सुना होगा और उन्हें देखा भी होगा। इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री लगातार बढ़ती जा रही है। लेकिन क्या आप जानते हैं अब देश में इलेक्ट्रिक वाहनों के साथ – साथ इलेक्ट्रिक सड़के भी होंगी। दरअसल, सरकार का लक्ष्य है कि 2030 तक देश में 30% वाहन इलेक्ट्रिक हों। इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए सरकार अब इलेक्ट्रिक रोड बनाने पर भी जोर दे रही है।

इस कदम से देश को काफी कुछ सकारात्मक मिलने की उम्मीद है। ऐसा कहा जा रहा है कि ये रोड अपने ऊपर चलने वाले वाहनों को ऊर्जा की आपूर्ति करते हैं, जिससे वाहनों को रिचार्ज होने के लिए कहीं रुकना नहीं पड़ता है। जर्मनी और भारत दोनों जगहों पर सीमेंस ई रोड बना रही है ,इन रोड पर वाहन 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकेंगे और प्रदूषण भी बेहद कम होगा।

प्रदूषण को अगर नहीं रोका गया तो आने वाले सालों में यह कैंसर से बड़ा जानलेवा रोग बन जाएगा। इस पर काबू पाने के लिए यह काम किया जा रहा है। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस वे पर एक लेन ई हाईवे की होगी। यह ई-लेन करीब 1300 किलोमीटर लंबी होगी। इससे लॉजिस्टिक का खर्च 70 फीसद तक कम हो जाएगा।

आम जनता भी लगातार इलेक्ट्रिक वाहनों की तरफ अपना रुख अख्तियार कर रही है। बढ़ते पेट्रोल – डीज़ल के दामों के कारण यह ज़रूरी भी है। कंपनी ने सबसे पहले जर्मनी की फ्रैंकफर्ट शहर में इसी तकनीक से सड़क बनाई है जिसमें सड़क के ऊपर बिजली के विशाल केबल लगे हैं। इन केबल में 670 वोल्ट का करंट होता है।

इस तकनीक से काफी हद तक प्रदूषण से छुटकारा मिल सकेगा। इस तरह के इलेक्ट्रिक रोड में मुख्य रूप से तकनीकों का इस्तेमाल होता है। यह गाड़ियों के ऊपर पावर लाइन होती है, जैसा भारत में होता है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More