HomeFaridabadमहिला सरपंच की सोच ने बदल दिया फरीदाबाद के इस गांव के...

महिला सरपंच की सोच ने बदल दिया फरीदाबाद के इस गांव के तालाब का जीवन

Published on

जिला फरीदाबाद के ज्यादातर गांवों में तालाबों की हालत काफी बिगड़ चुकी हैं। गांवों के तालाबों की हालत दयनीय हो चुकी है। लेकिन कई गांव ऐसे भी हैं जहां तालाबों का अच्छा प्रयोग हो रहा है। ऐसा ही एक गांव फरीदाबाद का फरीदपुर गांव है, जिसकी महिला सरपंच सविता कौशिक हैं।

इस गांव की महिला सरपंच सविता कौशिक व उनके पति दया कौशिक ने मिलकर गांव के तालाब को जीवंत कर दिया है। इनके प्रयासों से न केवल तालाबों की साफ-सफाई की गई बल्कि के तालाब की नए सिरे से खुदाई भी कराई गई। साथ ही तीन तालाब विधि द्वारा भी यहां काम किया जा रहा है।

महिला सरपंच की सोच ने बदल दिया फरीदाबाद के इस गांव के तालाब का जीवन

बता देंगे तीन तलाक विधि एक ऐसी विधि है, जिसके माध्यम से तालाब के गंदे पानी को सिंचाई योग्य बनाया जाता है। इस विधि में सबसे पहले तालाब की सफाई की जाती है, उसके बाद खुदाई की जाती है तथा एक साथ तीन तालाब बनाए जाते हैं।

पहले गांव का गंदा पानी एक तालाब में जाता है, उसके बाद दूसरे व तीसरे तालाब में पाइप द्वारा वही पानी जाता है। गंदे पानी में एकत्र कूड़ा – करकट व अन्य कचरा पहले वह दूसरे तालाब में ही रह जाता है जबकि सिंचाई योग्य पानी तीसरे तालाब में पहुंच जाता है। तीन तालाब विधि द्वारा फसलों की सिंचाई भी की जा सकती है।

महिला सरपंच की सोच ने बदल दिया फरीदाबाद के इस गांव के तालाब का जीवन

गांव के अधिकतर तालाब कब्जे में अतिक्रमण की भेंट चढ़ रहे हैं। मजेदार लोगों के किनारों पर कूड़ा करकट जमा रहता है, मच्छरों के कीड़े मकोड़ों के घर भी यही तालाब है। जिस कारण तालाबों की हालत जर्जर हो रखी है।

तालाबों में जमा गंदगी के कारण तालाब का पानी जमीन में रिसने की बजाय ओवरफ्लो हो आसपास के क्षेत्र में भरना शुरू हो जाता है। तालाब की साफ सफाई कर उन्हें जीवंत बनाने की मुहिम द्वारा तालाब कब्जा होने से बच जाते हैं।

महिला सरपंच की सोच ने बदल दिया फरीदाबाद के इस गांव के तालाब का जीवन

फरीदपुर गांव की महिला सरपंच सविता कौशिक का कहना है कि तालाबों को जीवंत करना अति आवश्यक है। इसके अनेकों फायदे होते हैं। तालाबों के जीवंत होने से भूजल स्तर बढ़ता है। साथ ही इस पानी को सिंचाई के लिए भी प्रयोग किया जा सकता है।

फरीदपुर गांव की महिला सरपंच की सोच ने एक ऐसे तालाब को जीवंत किया जहां हमेशा कूड़ा करकट ही पड़ा रहता था। महिला सरपंच सविता कौशिक को स्वच्छता के मामले में सम्मानित किया जा चुका है।

Latest articles

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

More like this

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...