Homeजानिये आखिर क्यों आती है उंगलियां चटकाने पर आवाज़?, कारण आपको कर...

जानिये आखिर क्यों आती है उंगलियां चटकाने पर आवाज़?, कारण आपको कर देगा हैरान

Published on

आपने कभी ना कभी अपनी जिंदगी में उंगलियों को चटका कर जरूर देखा होगा। जब भी हम बहुत देर तक लगातार काम करते रहते है तो फिर थोड़ी देर रुककर अपनी उंगली और सर या और दूसरी हड्डियाँ चिटकाते हैं तो हमें आराम मिलता है और हम रिफ्रेश फील करने लगते हैं। अक्सर आफिसों में, घरों में या कालेजों में लोग ऐसा करते हुए दिख जाते हैं। लेकिन आपको ये जानकार हैरानी होगी कि हड्डियाँ चिटकाने से हमारी हड्डियाँ कमजोर होती हैं।

ऐसा बहुत से लोगों के मन में आता है और वह सोचते भी हैं कि उंगलियां चटकाने पर जो आवाज़ आती है वो मन को अच्‍छी लगती है। क्‍या आपने कभी ये सोचा है कि उंगलियां चटकाने पर आवाज़ क्‍यों आती है? उंगलियों को फोड़ना या चटकाना सेहत के लिए ठीक नहीं है। डॉक्टरों का मानना है कि हाथ या पैर की उंगलियां चटकाने से हडि्डयों पर बुरा असर पड़ता है।

जानिये आखिर क्यों आती है उंगलियां चटकाने पर आवाज़?, कारण आपको कर देगा हैरान

कुछ आदतें ऐसी होती हैं जो हमें अच्छी लगती हैं लेकिन काफी नुकसानदेह होती है। इस आदत को छोड़ देना चाहिए। उंगलियों के जोड़ और घुटने और कोहनी के जोड़ों में एक खास लिक्विड होता है। ये लिक्विड हमारी हडि्डयों के जोड़ों के लिए ग्रीस का काम करता है जो कि हडि्डयों को एक दूसरे से रगड़ खाने से रोकता है। लिक्विड में मौजूद गैस जैसे कार्बन डाई ऑक्साइड नई जगह बनाती है। इससे वहां बुलबुले बन जाते हैं। जब हम हड्डी चटकाते हैं तो वही बुलबुले फूट जाते हैं। तभी कुट-कुट की आवाज़ आती है।

जानिये आखिर क्यों आती है उंगलियां चटकाने पर आवाज़?, कारण आपको कर देगा हैरान

जब कोई फ्री बैठा होता या है कोई काम कर के आराम करना चाहता है तो वह इस आदत को ज़रूर करता है। लेकिन जब 1 बार जोड़ों में बने बुलबुले फूट जाते हैं उसके बाद उस लिक्विड में वापस गैस घुलने में करीब 15 से 30 मिनट लगते हैं.इसीलिए एक बार उंगलियां चटक जाती हैं तो दोबारा चटकाने पर आवाज़ नहीं आती है। चाहे जितनी बार कोशिश कर लो, जब तक बुलबुले नहीं बनेंगे तब तक कुट-कुट नहीं बोलेगा।

जानिये आखिर क्यों आती है उंगलियां चटकाने पर आवाज़?, कारण आपको कर देगा हैरान

कई बार लोग परेशान हो जाते हैं जब उनकी उंगली से आवाज़ निकलना बंद हो जाती है। लेकिन इसमें परेशान होने वाली कोई बात नहीं है। हडि्डयां आपस में लिगामेंट से जुड़ी होती हैं। बार-बार उंगलियां चिटकाने से उनके बीच होने वाला लिक्विड कम होने लगता है। अगर ये पूरा ख़त्म हो जाए तो गठिया हो सकता है।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...