HomeFaridabadकंटेनमेंट जॉन की तरफ नहीं दे रहा है कोई ध्यान, लेकिन मोर्चरी...

कंटेनमेंट जॉन की तरफ नहीं दे रहा है कोई ध्यान, लेकिन मोर्चरी पर दिया जा रहा है खास तवज्जो

Published on

बीके अस्पताल में आए दिन महामारी की चपेट में आने वाले मरीजों की टेस्टिंग उपचार किया जाता है। लेकिन इस दौरान कभी किसी महामारी की चपेट में आने वाले मरीज की मृत्यु हो जाती है।तो उसकी डेड बॉडी को मोर्चरी में रखा जाता है।

जैसे कि आप सभी जानते हैं कि आए दिन महामारी की चपेट में आने वाले मरीजों की संख्या में इजाफा देखने को मिल रहा है। इसी वजह से बी के अस्पताल में टेस्टिंग करवाने आने वाले लोगों की संख्या में भी बढ़ोतरी देखने को मिल रही है।

कंटेनमेंट जॉन की तरफ नहीं दे रहा है कोई ध्यान, लेकिन मोर्चरी पर दिया जा रहा है खास तवज्जो

जिसकी वजह से बीके अस्पताल में भी टेस्टिंग करवाने की भीड़ नजर आती है।  मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है वैसे ही हर रोज 1 से 2 मरीज़ों की महामारी की चपेट में आने से मृत्यु भी हो रही है। उन मरीजों की डेड बॉडी को कुछ समय के लिए मोर्चरी में रखा जाता है। बीके अस्पताल में भी सेक्सी दो महामारी की चपेट में आने वाले मरीजों की मृत्यु होती है ।

कंटेनमेंट जॉन की तरफ नहीं दे रहा है कोई ध्यान, लेकिन मोर्चरी पर दिया जा रहा है खास तवज्जो

उसकी डेड बॉडी को मोर्चरी में रखा जाता है। मोर्चरी को सेनेटीज़ करने के लिए बीके अस्पताल में मशीन आ चुकी है। आरएमओ डॉ रोहित ने बताया कि बीके अस्पताल की मोर्चरी में कोई ना कोई महामारी की चपेट में आने वाले व्यक्ति की मृत्यु हो जाने के बाद डेड बॉडी आती है। जिसकी डेड बॉडी को मोर्चरी में रखा जाता है। जैसे कि आप सभी जानते हैं कि मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है।

कंटेनमेंट जॉन की तरफ नहीं दे रहा है कोई ध्यान, लेकिन मोर्चरी पर दिया जा रहा है खास तवज्जो

इसी वजह से वह डेडबॉडी मोर्चरी में रखी जाती है। तो उसके बाद उसको सेनेटीज़ के लिए मशीन बीके अस्पताल में आ चुकी है। अब जैसे ही कोई भी महामारी की चपेट में आने वाले मरीज की डेड बॉडी में रखी जाती है। तो वह डेड बॉडी के जाने के बाद बैटरी को सैनिटाइज किया जाएगा। ताकि मोर्चरी में काम करने वाले कर्मचारी व डॉक्टरों को किसी प्रकार की कोई भी परेशानी ना हो।

इसके अलावा महामारी की चपेट में आने वाले मरीज़ की डेड बॉडी जाने के बाद मोर्चरी को पूरी तरह से सेनेटीज़ किया जाता है। उन्होंने बताया कि मोर्चरी के अलावा ओपीडी और एमरजैंसी को भी समय-समय पर सेनेटीज़ करते रहेंगे ताकि अन्य मरीजों किसी प्रकार की कोई परेशानी ना हो।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...