HomeGovernmentउद्योगपतियों के लिए चुनौतीपूर्ण हो रहा है प्रवासी मजदूरों को रोकना

उद्योगपतियों के लिए चुनौतीपूर्ण हो रहा है प्रवासी मजदूरों को रोकना

Published on

देश में पहली महामारी में एक बार फिर से सभी को सोचने पर मजबूर कर दिया है कि यह साल कैसा होगा ? पिछले साल तो जैसे तैसे गुजारा हो गया था. बिता हुआ सालअपने साथ बहुत बुरी यादें छोड़कर गया था.

हालांकि अभी उस दर्द से बाहर निकले भी नहीं थे कि एक बार फिर वही इतिहास को दोहराने के लिए निकल पड़ा हैं।

उद्योगपतियों के लिए चुनौतीपूर्ण हो रहा है प्रवासी मजदूरों को रोकना

फरीदाबाद को औद्योगिक नगरी कहां जाता है क्योंकि यहां की आर्थिक व्यवस्था शहर के उद्योग के कंधों पर है । किसी भी व्यवसाय की नींव होते है उस जगह पर कार्य करने वाले श्रमिक .

उद्योगपतियों के लिए चुनौतीपूर्ण हो रहा है प्रवासी मजदूरों को रोकना

लेकिन जैसे ही इन श्रमिकों को पता चला कि देश के कई राज्यों में लॉकडाउन लगने की स्थिति पैदा हो गई है तो इनके जहन में पिछले साल वाला मंजर आंखों के आगे साफ दिखाई दे रहा है

उद्योगपतियों के लिए चुनौतीपूर्ण हो रहा है प्रवासी मजदूरों को रोकना

इन मजदूर और श्रमिको को एक बार फिर से लगने लगा कि कैसे यह साल कटेगी अन्य राज्यों से यहां पर नौकरी करने के लिए आए लाखों की संख्या में श्रमिक और मजदूरों को यह डर सताने लगा यदि इस बार लॉकडाउन लगा तो भूखे मरने की नोबत आ सकती है

उद्योगपतियों के लिए चुनौतीपूर्ण हो रहा है प्रवासी मजदूरों को रोकना

डर के साये में प्रवासी मजदूर

यह वो मजदूर और कामगार भाई हैं जो अपने घर अपनी मिट्टी अपने गांव को छोड़कर यहां काम की तलाशने आते है लेकिन इस बार उन्हें पहले से ज्यादा डर हैं .

इस डर हैं तो काम छूटने का डर है तो रोटी के एक एक दाने को मोहताज होने का . पूरे देश से इस समय मजदूर के पलायन की बहुत सारी तस्वीरे सामने आ रही हैं ।

उद्योगपतियों के लिए चुनौतीपूर्ण हो रहा है प्रवासी मजदूरों को रोकना

जितना डर अन्य राज्यों से आए हुए इन श्रमिको और मजदूरों को सता रहा है इतना ही डर उन सभी उद्योगपतियों को भी सता रहा है। जिन मजदूरों आउट कामगारों की मेहनत के बल पर कोई भी उद्योग फलता फूलता है

लेकिन अब इन सबको यह डर है कि यदि सभी मजदूर और श्रमिक वापस अपने घरों की तरफ लौट गए तो कैसे व्यापार में को चलाया जाएगा प्रत्येक उद्योगपति अपने यहां पर कामगारों को यह समझाने का प्रयास कर रहे हैं कि वो शहर छोड़ कर ना जाये।

उद्योगपतियों के लिए चुनौतीपूर्ण हो रहा है प्रवासी मजदूरों को रोकना

हालांकि प्रदेश के गृहमंत्री अनिल विज ने पलायन करते मजदूरों को कहा था कि प्रदेश में लॉकडाउन नही लगने वाला है तो आप हरियाणा छोड़ के ना जाये.

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...