HomeFaridabadलॉकडाउन का सताने लगा है डर, अभी तो आर्थिक तौर पर संभले...

लॉकडाउन का सताने लगा है डर, अभी तो आर्थिक तौर पर संभले भी नही थे

Published on

माहमारी का दूसरा चरण पूर्णरूप से बेलगाम हो गया हैं इसकी भयावह स्थिति को देखते लग रहा है कि भारत एक बार फिर लॉकडाउन की ओर बढ़ रहा है। हालांकि, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने साफ कर दिया है कि फिलहाल ऐसी स्थिति नहीं दिख रही है। देश में जल्दबाजी में लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा

लॉकडाउन यह एक ऐसा शब्द है जिससे हर कोई परिचित है इस शब्द में ना पूरे देश को हिला कर रखा बल्कि देश की अर्थव्यवस्था को भी डगमगा गया था करीब 1 वर्ष में जिधर देखो उधर सुनी सड़कें बंद दुकाने पूरे शहर में सन्नाटा दिखाई दे रहा था बीते वर्ष सभी लोगों को इस शब्द में खासा परेशान किया था ।

लॉकडाउन का सताने लगा है डर, अभी तो आर्थिक तौर पर संभले भी नही थे

लॉकडाउन के कारण जहां लोग घरों के अंदर कैद थे वही उनके काम धंधे भी चौपट हो गए थे. कुछ ऐसे व्यवसाय थे जिन को वापस पटरी पर आने के लिए बहुत वक्त लगा अभी तक लोग आर्थिक रूप से खुद को सशक्त भी नहीं कर पाए थे कि एक बार फिर से लोगों को लॉकडाउन का डर सताने लगा है ।

जिस तरह से दिल्ली में 2 दिन का ही सही साप्ताहिक लॉक डाउन लगा है उस डर की कुछ घुटन यंहा भी नजर आ रही है लोगो को इस बात का डर है कि जैसे तैसे वापस अपनी जीवन की पटरी को लाइन पर लाया गया था अब एक बार फिर पुराना समय ना लौट कर आये।

लॉकडाउन का सताने लगा है डर, अभी तो आर्थिक तौर पर संभले भी नही थे

सेक्टर 65 स्थित मैक फिटनेस जिम चालक रोहित का कहना है कि यदि इस बार लॉक डाउन लगा तो फिर से जिम बंद हो जाएंगे इसके दो नुकसान है पहला यह कि जिम और व्यवसायों के मुकाबले बहुत देरी से खुले थे .

लॉकडाउन का सताने लगा है डर, अभी तो आर्थिक तौर पर संभले भी नही थे

जिसके कारण आर्थिक तौर पर अभी संभले भी नही थे कि फिर से लॉकडॉउन लगने का डर सताने लग रहा है लेकिन यह भी कहा जा सकता है यदि जिम बंद होंगे तो लोग वर्कआउट नही कर पाएंगे. वर्कआउट करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा देती है जो इस भयानक माहमारी से लड़ने की ताकत देती हैक

लॉकडाउन का सताने लगा है डर, अभी तो आर्थिक तौर पर संभले भी नही थे

अभिषेक कुमार दिल्ली के रहने वाले का कहना है कि अगर लॉकडाउन पूर्ण रूप से लग जाता है तो भुखमरी फैल जाएगी खाने को कुछ होगा नहीं रोज कमाते हैं रोज खाते हैं .परंतु लॉक डाउन की स्थिति में बच्चे भूखे मर जाएंगे दिल्ली में 2 दिन के लोग डाउन की बात करें तो उसमें ही हालत खराब है अगर तरह से लॉक डाउन लग जाता है तो हम भूखे मर जाएंगे।

लॉकडाउन का सताने लगा है डर, अभी तो आर्थिक तौर पर संभले भी नही थे

फरीदाबाद निवासी कमल कांत का कहना है कि अगर अब लॉक डाउन लग जाता है तो मुझे अपने गांव का रुख करना पड़ेगा क्योंकि यहां रहेंगे तो ना कुछ कमा पाएंगे और ना कुछ खा पाएंगे गांव में तो उधार ही राशन मिल जाता है।

लॉकडाउन का सताने लगा है डर, अभी तो आर्थिक तौर पर संभले भी नही थे

बदरपुर निवासी बंटी जोकि व्यवसाय मोची है का कहना है की अगर लॉक डाउन लग जाता है तो कुछ ना कुछ काम तो हमें करना ही पड़ेगा क्योंकि बच्चों की सारी जिम्मेदारी मुझ पर है सरकार के भरोसे हम नहीं रह सकते कुछ तो ऐसा करना होगा जिससे मेरे परिवार का पेट भर सके।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...