Pehchan Faridabad
Know Your City

हरियाणा में नियंत्रित है महामारी की स्थिति, लॉकडाउन की नहीं है जरूरत: संजीव कौशल

हरियाणा के वित्त आयुक्त और राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल ने कहा कि हरियाणा में महामारी को लेकर स्थिति पूर्णतः नियंत्रण में है और अभी तक लॉकडाउन लगाने की जरूरत नहीं है।


ये बात उन्होंने आज विडिओ कांफ्रेंस फरीदाबाद जिले में महामारी से संबंधित जिले की व्यवस्थाओं का जायजा और जिला अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश देते हुए कही। उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार द्वारा पिछले दिनों महामारी की स्थिति के तहत निगरानी हेतु वरिष्ठ अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई थी।

कौशल ने जिले की व्यवस्थाओं का जायजा और आवश्यक दिशा निर्देश जिलाधिकारियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चंडीगढ़ से दिए, जबकि फरीदाबाद में उपायुक्त गरिमा मित्तल सहित अन्य जिला के वरिष्ठ अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में जुड़े।


इस कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान संजीव कौशल ने जिलाधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि जिले में 30% बेड की सुविधा निजी और सरकारी अस्पतालों में महामारी के लिए होनी चाहिए और इसे सुनिश्चित किया जाना चाहिए। इसी प्रकार, आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों को भी अच्छी प्रकार से समझाना चाहिए कि आइसोलेशन में किस प्रकार से वह अपने स्वास्थ्य की देखभाल करें।

क्योंकि 60 से 70% ऐसे आइसोलेशन के मरीजों को अस्पतालों की आवश्यकता नहीं होती है। इसके अलावा, कोविड-19 मरीज़ों को टेलीमेडिसिन के साथ-साथ अन्य उपचार के माध्यम को भी अपनाते हुए समझाना चाहिए। उन्होंने कहा कि आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों को ऑक्सीमीटर के साथ-साथ एक कीट भी दिए जाने का प्रावधान किया जाना चाहिए ताकि वे अपने स्वास्थ्य के संबंध में इस किट का प्रयोग कर सकें।


कौशल ने जिलाधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि जिला में महामारी के मरीजों की सुविधा के लिए कॉल सेंटर या मोबाइल ऐप को विकसित किया जाना चाहिए ताकि हर अपडेट को कोविड मरीज व आम जनता देख सकें तथा साथ ही संबंधित उपायुक्त व सीएमओ इस ऐप के माध्यम से मॉनिटरिंग कर सकें।

अतिरिक्त मुख्य सचिव कौशल ने बताया कि क्रिटिकल मरीजों के लिए मेडिकल कॉलेजों में 100 बेड की व्यवस्था की जानी चाहिए तथा साथ ही सीएमओ को यह शक्तियां भी प्रदान करें कि यदि डॉक्टर या पैरामेडिक्स की कमी होती है तो वह डॉक्टरों और पैरामेडिकल को भी कोविड-19 मरीज़ों की देखभाल के लिए व्यवस्था कर सकें।

कौशल ने कहा कि प्राइवेट अस्पतालों को भी, यदि वे होटल में मरीजों को रखने के लिए व्यवस्था करते हैं, तो इसका भी प्रावधान सुनिश्चित किया जाना चाहिए। इसके अलावा, अस्पतालों की ओ [पी डी अन्य नॉन कोविड मरीजों व गरीब, जिनको इलाज कराने में दिक्कत आती है, उन्हें किसी प्रकार की समस्या ना हो और कोविड-19 प्रोटोकॉल्स को भी ध्यान रखे ।


कौशल ने बताया कि हरियाणा में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है लेकिन फरीदाबाद के जिलाधिकारियों को ऑक्सीजन की नियमित निगरानी रखनी होगी ताकि किसी भी प्रकार से किसी भी मरीज को दिक्कत का सामना ना करना पड़े। इसके अतिरिक्त कौशल ने जिलाधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि कोविड-19 टेस्टिंग तथा देखभाल में लगे डॉक्टरों को,चाहे वे प्राइवेट या सरकारी अस्पतालों में कार्यरत है,कोई भी कोविड सिम्पटम्स वाले व्यक्ति का कोविड टेस्ट अवश्य करना चाहिए ।


अतिरिक्त मुख्य सचिव ने रेडमीसीवर दवाई की कालाबाजारी पर रोक लगाने के लिए जिला अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश देते हुए कहा कि इस दवाई की कालाबाजारी को हर हालत में रोका जाए और लगातार निगरानी बनाए रखी जाये। इसके अलावा, ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में लगातार स्वच्छता अभियान चलाया जाएं और सैनिटाइजेशन की जाए। साथ ही साथ कर्फ्यू और लॉक डाउन की उल्‍लंघनना न हो पाए, इस पर निगरानी के अधिकारियों को रखनी होगी।


कौशल ने कहा कि हरियाणा में 90% आरटी पीसीआर टेस्ट किए जा रहे हैं कई बार इनकी रिपोर्ट लेट आती है लेकिन कोविड मरीज़ों का इलाज समय पर शुरू कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि जिला में टेस्टिंग को बढ़ाया जाए ताकि पॉजिटिव केस डिटेक्ट हो सके। इसी तरह, कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग को लगातार बनाये रखें। साथ ही कन्टेनमेंट जोन विभिन्न अधिकारियों की ड्यूटी लगायी जाए, ये सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

कौशल ने जिलाधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि फरीदाबाद जिले में टीकाकरण अभियान लगातार चलता रहना चाहिए। इसके अलावा, उन्होंने कहा कि आयुर्वेद के जो इम्यूनिटी बूस्टर उत्पाद हैं उनको भी घर-घर बांटने का काम जारी रखें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को संक्रमित होने से बचाया जा सके।


वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में फरीदाबाद की उपायुक्त गरिमा मित्तल ने कहा कि जिला में ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं है और ऑक्सीजन को पर्याप्त मात्रा में अस्पतालों को उपलब्ध करवाया जा रहा है। उपायुक्त ने बताया कि फरीदाबाद में टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है जिसमें विभिन्न एसोसिएशन की भागीदारी भी सुनिश्चित करने के साथ-साथ सहयोग लिया जा रहा है। उपायुक्त ने बताया कि जिला में 700 बेड ऑक्सीजन सहित देने की पेशकश दो कंपनियों ने की है।


उन्होंने बताया कि जिले में अब तक 624552 लोगों का टेस्ट करवाया गया है जिसमें से कुल 56828 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। तो वही पर एक मिलियन पॉपुलेशन टेस्ट की संख्या 345100 है तथा एक्टिव केस 5577 है। इसी प्रकार, रिकवरी रेट 89.9 प्रतिशत, डबलिंग रेट 56 दिन और मृत्यु दर 0.8 प्रतिशत है।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More