HomeLife StyleHealthअगर अस्पतालों में नही मिले मरीजों को भर्ती करने का स्थान, तो...

अगर अस्पतालों में नही मिले मरीजों को भर्ती करने का स्थान, तो ऐसे करें घर पर देखभाल

Published on

दिन प्रतिदिन संक्रमण का कहर चरम सीमा तक पहुंचा हुआ दिखाई दे रहा है। हर व्यक्ति इस संक्रमण से बचने के लिए हर नामुमकिन प्रयास करने में जुटा हुआ है। इसके बावजूद भी न चाहते हुए भी लोग इस संक्रमण की जद में आते जा रहे है।

यही कारण है कि अस्पतालों में मरीजों को भर्ती करने के लिए स्थान लिप्त होता जा रहा है। इसलिए अब आपको चिंता करने की जरूरी नही है

अगर अस्पतालों में नही मिले मरीजों को भर्ती करने का स्थान, तो ऐसे करें घर पर देखभाल

हम इस खबर के माध्यम से आपको बताएंगे कि शुरुआती लक्षण दिखने पर इस संक्रमण से ग्रस्त मरीजों का होम आइसोलेशन में कैसे देखभाल करें।

होम आइसोलेशन में ऐसे रखिए संक्रमित मरीजों का ख्याल

अगर लक्षण हल्के हो तो हम आइसोलेशन में रहे। पानी भरपूर मात्रा में पिए। यद्यपि आप को बुखार है तो आप इसके लिए पेरासिटामोल पर टैबलेट भी ले सकते हैं। घर पर भी फेस मास्क पहनकर अवश्य रहे।

अगर अस्पतालों में नही मिले मरीजों को भर्ती करने का स्थान, तो ऐसे करें घर पर देखभाल


घर के अंदर खिड़की खोल कर रखें ताकि वेंटिलेशन ठीक रहे। मरीज के मोबाइल में आरोग्य सेतु एप डाउनलोड हो इस बात का ध्यान रखें। मरीजों के लिए एक केयर करने वाला 24 घंटे मौजूद होना जरूरी है।
वहीं मरीज जिला सर्विलांस टीम के साथ फॉलो के लिए तैयार रहें।

ऑक्सीजन का खास ध्यान रखा जाए।

घर पर ऑक्सीमीटर रखें ऑक्सीजन लेवल चेक करते रहे। ऑक्सीजन लेवल 92 फ़ीसदी से ऊपर हो तो ज्यादा चिंता की कोई बात नहीं है। यदि ऑक्सीजन 92 प्रतिशत से कम हो तो घर पर ऑक्सीजन दे और इसे लो ही रखें।

यद्यपि ऑक्सीजन 85 % से नीचे आ जाता है तो ऑक्सीजन सपोर्ट 4 लीटर प्रति मिनट बढ़ा दे। अब समय आ गया है जब मरीज को अस्पताल में भर्ती करने की कोशिश हो।

अगर अस्पतालों में नही मिले मरीजों को भर्ती करने का स्थान, तो ऐसे करें घर पर देखभाल

कब हॉस्पिटल लेकर जाना चाहिए मरीज को।

माइल्ड जिसमें मरीज को फीवर हो तो इन्हें होम आइसोलेशन या कोविद-19 सेंटर में रखें।

मॉडरेट में न्यूमोनिया तो हो मगर गंभीर अवस्था में ना हो कोविद-19 अस्पताल ले जाए।

सीवियर में जिन्हें सांस लेने में परेशानी हो रही हो हार्ट बीट कम हो आईसीयू वाली अस्पताल में लेकर जाए

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...