Homeकिसान आंदोलन बन सकता है "बम" आंदोलन, जानिये कैसे महामारी की लहर...

किसान आंदोलन बन सकता है “बम” आंदोलन, जानिये कैसे महामारी की लहर में हो सकता है केसेस का धमाका

Published on

महामारी की दूसरी लहर ने देश में हाहाकार मचा दिया है। किसी भी राज्य में स्थिति संतोषजनक नहीं है। हर जगह स्तिथि चिंताजनक बनी हुई है। हर दिन बढ़ते मामलों ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है। दिल्ली की सीमांओं पर बैठे हज़ारों किसान किसी भी समय महामारी का बम फोड़ सकते हैं। टिकरी बाॅर्डर की बात करें तो यहां पिछले 15 दिन से किसानों की संख्या 200 से 300 के बीच में थी, लेकिन अब पंजाब से करीब दो से तीन हजार बुजुर्ग किसान पहुंच गए।

किसानों को यह समझना होगा कि यह जानलेवा बीमारी किसी के फायदा का सौदा नहीं है। इस चिंताजनक स्थिति में 3 दिनों में 5 हजार और किसानों के आने की घोषणा की गई है।

किसान आंदोलन बन सकता है "बम" आंदोलन, जानिये कैसे महामारी की लहर में हो सकता है केसेस का धमाका

लगातार बढ़ते मामलों में सिर्फ भाजपा के कार्यकर्ता ही नहीं है बल्कि किसान से लेकर बड़े – बड़े विपक्षी नेता भी हैं। किसानों को यह समझना होगा की इतनी बड़ी संख्या में वह इस आंदोलन को न चलाये। यह आंदोलन बम आंदोलन कहने के काबिल हो जाएगा। किसानों की बढ़ती संख्या के सामने मुट्ठी भर स्वास्थ्य विभाग की टीम कैसे महामारी टेस्ट करवाएगी। इसे लेकर संकट पैदा हो गया है।

किसान आंदोलन बन सकता है "बम" आंदोलन, जानिये कैसे महामारी की लहर में हो सकता है केसेस का धमाका

नाराज़गी अगर किसानों को है तो वह है सरकार से न कि आम जनता से। आंदोलन को चालू रख कर किसान आम लोगों के लिए खतरा बन रहे हैं। जनता को तकलीफ देकर भला कौनसा किसान चैन से बैठ सकता है? इस आंदोलन ने काफी सवालों को जन्म दिया है। सरकार ने सभी किसानों का टेस्ट कराने व वैक्सीन लगाने को कहा है। दूसरी तरफ हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने बढ़ते मामलों और किसान आंदोलन को लेकर गंभीर चिंता जताई है।

किसान आंदोलन बन सकता है "बम" आंदोलन, जानिये कैसे महामारी की लहर में हो सकता है केसेस का धमाका

सरकार की सहनशक्ति को किसान कमज़ोरी समझ रहे हैं। सरकार यदि चाहे तो चंद मिनटों में धरने पर बैठे किसानों को तित्तर-बित्तर कर सकती है लेकिन सरकार इन्हें अपना मानती है इसलिए सहन कर रही है। आमजन अगर किसानों वाले रवैये पर आ गया तो किसानों के लिए बड़ी परेशानी खड़ी हो सकती है।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...