Homeदेश में ऑक्सीजन उत्पादन की नहीं है कमी, राज्यों तक ऑक्सीजन पहुंचने...

देश में ऑक्सीजन उत्पादन की नहीं है कमी, राज्यों तक ऑक्सीजन पहुंचने में हो रही देरी, जानें समस्या

Published on

इस समय देश में महामारी की मार पड़ रही है। कोई भी ऐसा राज्य नहीं जहां स्थिति संतोषजनक हो। भारत में ऑक्सीजन उत्पादन की नहीं, बल्कि उसे जरूरतमंदों तक पहुंचाने की चुनौती है। समस्या यह है कि महामारी के कारण दिल्ली, मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र जैसे पश्चिम भारत के राज्यों में ऑक्सीजन की भारी कमी हो गई है, लेकिन ऑक्सीजन उत्पादन की अधिकांश इकाइयां झारखंड, ओडिशा और आंध्र प्रदेश जैसे राज्यों में हैं।

लगातार बढ़ते ग्राफ ने सभी को चिंता में डुबो दिया है। पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन उपलब्ध होने के बावजूद ज्यादा दूरी के कारण उसे समय पर जरूरतमंदों तक पहुंचना मुश्किल हो रहा है।

देश में ऑक्सीजन उत्पादन की नहीं है कमी, राज्यों तक ऑक्सीजन पहुंचने में हो रही देरी, जानें समस्या

ऑक्सीजन की कमी से मौतों का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। दिल्ली में स्तिथि सबसे चिंताजनक है। ऑक्सीजन की बढ़ी मांग के बावजूद उसका उत्पादन अब भी ज्यादा है। प्रतिदिन 7500 मीट्रिक टन के उत्पादन की तुलना में सबसे अधिक संक्रमण वाले 20 राज्यों ने 6785 मीट्रिक टन प्रतिदिन की मांग की है। उत्पादन लगातार बढ़ाया भी जा रहा है।

देश में ऑक्सीजन उत्पादन की नहीं है कमी, राज्यों तक ऑक्सीजन पहुंचने में हो रही देरी, जानें समस्या

दिल्ली से जो तस्वीरें आ रही हैं वह काफी भयावह हैं। ऑक्सीजन की मांग में लंबी – लंबी लाइनें लगी हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ बैठक में महाराष्ट्र ने 1500 मीट्रिक टन प्रतिदिन ऑक्सीजन की जरूरत बताई, लेकिन उसे 1661 मीट्रिक टन का आवंटन किया गया। इसी तरह गुजरात की 1000 टन की मांग को देखते हुए 975 टन का आवंटन किया गया।

देश में ऑक्सीजन उत्पादन की नहीं है कमी, राज्यों तक ऑक्सीजन पहुंचने में हो रही देरी, जानें समस्या

महामारी अपना विकराल रूप धारण कर चुकी है। यह समय घरों में रहना का है, बाज़ारों में घूमने का नहीं। हालांकि, राज्यों की मांग के अनुरूप कमोवेश ऑक्सीजन का कोटा आवंटित कर दिया गया है। लेकिन राउरकेला, विसाखापट्टनम, जमशेदपुर और बोकारो से महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा और पंजाब जैसे राज्यों को समय पर ऑक्सीजन पहुंचाना आसान काम नहीं है।

Latest articles

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

More like this

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...