Homeइनसे कुछ सीखें : पैसे नहीं थे तो पक्षी के घोंसले को...

इनसे कुछ सीखें : पैसे नहीं थे तो पक्षी के घोंसले को मास्क बनाकर पेंशन लेने पहुंचा शख्स, हो रही तारीफ

Array

Published on

महामारी की लहर सभी को सताने लगी है। हर जगह चिंता बनी हुई है। लोग परेशान हो रहे हैं। महामारी फैलने के बाद से मास्क अनिवार्य कर दिया है। अधिकांश स्थानों पर मास्क सरकार द्वारा मुफ्त बांटे जा रहे हैं। इस बीच, तेलंगाना से अजब-गजब खबर आई है। यहां एक बुजुर्ग अपनी पेंशन लेने के लिए पेंशन ऑफिस आए तो उन्होंने पक्षी के घोंसले को मास्क के रूप में पहन रखा था।

यह मास्क काफी कुछ सीख देता है कि अगर सुरक्षित रहना है तो मुँह और नाक को ज़रूर ढकें। बुजुर्ग का कहना है कि उनके पास मास्क खरीदने के पैसे नहीं है, इसलिए यह तरीका अपनाना पड़ा है। यह मामला है तेलंगाना के महबूबनगर जिले के चिन्नमुनुगल चाड के रहने वाले मिकाला कुर्मैया का। मिकाला को अपनी पेंशन लेने के लिए मंडल कार्यालय जाना पड़ा, लेकिन मुंह पर लगाने के लिए मास्क नहीं था।

इनसे कुछ सीखें : पैसे नहीं थे तो पक्षी के घोंसले को मास्क बनाकर पेंशन लेने पहुंचा शख्स, हो रही तारीफ

महामारी ने सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि विदेश में भी तबाही मचा रखी है। पुलिस-प्रशासन की कार्रवाई से बचने के लिए उन्होंने यह तरीका अपनाया। मिकाला जब सरकारी दफ्तर पहुंचे तो लोगों ने आश्चर्यभरी नजरों से देखा। कुछ ने उनके जुगाड़ की तारीफ भी की। इंटरनेट मीडिया पर फोटो वायरल होने के बाद बड़ी संख्या में लोग सरकार से मांग कर रहे हैं कि सरकार को फ्री मास्क बांटने चाहिए।

मास्क पहनना सभी को बहुत ज़रूरी है। यह हमें महामारी से बचाता है। साथ ही इस मामले में लोगों का कहना है कि मिकाला से सबस सीखा जा सकता है। जो लोग मास्क नहीं पहन रहे हैं, उनके लिए मिकाला मिसाल हैं। मंज़र काफी खतरनाक हो चले हैं। इस समय महामारी की दूसरी लहर ने सबकुछ थमा दिया है। सबकुछ थम गया है।

इनसे कुछ सीखें : पैसे नहीं थे तो पक्षी के घोंसले को मास्क बनाकर पेंशन लेने पहुंचा शख्स, हो रही तारीफ

महामारी की दूसरी लहर ने कहर मचा दिया है। लगातार मामलों में बढ़ोतरी हो रही है। मास्क पहनना और पौष्टिक खाना खाना कभी न भूलें। महामारी की दूसरी लहर ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...