HomeLife StyleHealthसंक्रमण ने दिखाए तेवर तो संसाधनों में आई गिरावट, फरीदाबाद-गुरुग्राम में इलाज...

संक्रमण ने दिखाए तेवर तो संसाधनों में आई गिरावट, फरीदाबाद-गुरुग्राम में इलाज के लिए तरसते मरीज

Published on

अचानक एक बार फिर तेजी से बढ़ने लगे संक्रमण में इस बार अपना असर इतना प्रभावित रूप से दिखाया है कि अस्पतालों में इलाज के लिए लोग दर-दर भटक रहे हैं। ऑक्सीजन की कमी में मरते हुए मरीज समाज को आइना दिखा रहे हैं कि उनकी मौत का कसूरवार संसाधनों की कमी और लापरवाही की बढ़ती सीमा है।

वहीं अगर हरियाणा के अंतर्गत आने वाले गुड़गांव फरीदाबाद जिले की बात करें तो यहां हालत बद से बदतर हो चुके हैं। मरीज अस्पतालों में ऑक्सीजन के अभाव में दम तोड़ रहे हैं। परिजनों का हंगामा सर चढ़कर बोलने लगा है। वहीं अगर एंबुलेंस संचालकों की बात करें तो मनमानी वसूली आमजन का जंजाल बनती जा रही है।

संक्रमण ने दिखाए तेवर तो संसाधनों में आई गिरावट, फरीदाबाद-गुरुग्राम में इलाज के लिए तरसते मरीज

कालाबाजरी ने जिंदा लाश की भारी कीमत लगानी शुरू कर दी है। कालाबाजारी भी बढ़ गई है। एंबुलेंस संचालक दिल्ली से यमुनानगर तक के 50 हजार रुपए तक वसूल हैं। उनपर कोई कार्रवाई नहीं हाे रही। जबकि रेट पहले से तय हैं।

वहीं संसाधनों में कमी के चलते अब संक्रमण रोकने के लिए सबसे जरूरी टेस्टिंग क्षमता के अनुसार नहीं हो पा रही है। वही जिनके सैंपल भी लिए गए हैं उनके सैंपल की रिपोर्ट भी देरी से मिल रही है। इसको लेकर मुख्य सचिव विजय वर्धन ने सभी डीसी को मॉनिटरिंग करने के आदेश दिए हैं। डीसी सुनिश्चित करेंगे कि आरटीपीसीआर टेस्टिंग की रिपोर्ट समय पर मिले।

संक्रमण ने दिखाए तेवर तो संसाधनों में आई गिरावट, फरीदाबाद-गुरुग्राम में इलाज के लिए तरसते मरीज

निजी अस्पतालों से लेकर लैब और कंटेनमेंट जोन पर नजर रखें। सरकारी व गैर-सरकारी अस्पतालों में आईसीयू एवं ऑक्सीजन बेड की उपलब्धता पर निगरानी रखेंगे।

रविवार को मुख्य सचिव ने राज्यस्तरीय क्राइसिस को-ऑर्डिनेशन कमेटी की बैठक में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए सभी डीसी को ये निर्देश दिए। मुख्य सचिव ने कहा कि सरकारी व गैर सरकारी अस्पतालों की निगरानी के लिए एक-एक नोडल अधिकारी तैनात होंगे।

संक्रमण ने दिखाए तेवर तो संसाधनों में आई गिरावट, फरीदाबाद-गुरुग्राम में इलाज के लिए तरसते मरीज

प्रदेश में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी रोकने के लिए प्रशासनिक कमेटी रोज मानिटरिंग करेंगे। सीएस ने सभी डीसी से रेमिडेसिवर टीके की खपत व उपलब्धता की रिपोर्ट मांगी है। इस समय राज्य में 46हजार मरीज होम आइसोलेशन में हैं।

रविवार दोपहर 2 बजे दिल्ली में सरकारी अस्पताल से रोहतक पीजीआईएमएस के ट्रामा सेंटर में पहुंचे मरीज के परिजनों ने बताया कि यहां बेड नहीं मिल रहा है। मरीज गंभीर हैं, प्रयास कर रहे हैं कि बेड की व्यवस्था हो जाए। गार्डों की ओर से उनकी एंबुलेंस को ट्रामा सेंटर के गेट से साइड करवा दिया गया। इंतजार के बाद मरीज को सिविल अस्पताल में शाम 4 बजे भर्ती करवाया गया। इसके बाद इलाज शुरू किया गया।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...