HomeLife StyleHealthआपदा में ढूंढ निकाला एंबुलेंस वालों ने पैसा कमाने का अवसर, मरीज...

आपदा में ढूंढ निकाला एंबुलेंस वालों ने पैसा कमाने का अवसर, मरीज को बैठाने के इतने मांग रहे दाम

Published on

महामारी का प्रकोप हर तरफ फैल गया है। जहां देखो वहां स्थिति चिंताजनक है। स्थिति काफी संकट की हो गयी है। लेकिन कुछ लोगों के लिए यह संकट का समय भी लालच से पैसा कमाने हो गया है। महामारी के इस काल में सांसों की सौदेबाजी हो रही है। कुछेक प्राइवेट अस्पतालों की ओर से ऑक्सीजन और दवाओं को लेकर मरीजों के जीवन से खिलवाड़ चल रहा है।

हर तरफ माहौल भयभीत करने वाला है। ऐसे में एंबुलेंस वाले कमाई का अपना जरिया ढूंढ रहे हैं। अस्पतालों में मरीजों को अचानक ऑक्सीजन खत्म होने का हवाला देकर खुद ही प्रबंध करने के लिए आदेश दे दिए जाते हैं। जबकि निजी तौर पर किसी को ऑक्सीजन सिलेंडर देने की प्रशासन ने मनाही की है।

आपदा में ढूंढ निकाला एंबुलेंस वालों ने पैसा कमाने का अवसर, मरीज को बैठाने के इतने मांग रहे दाम

हरियाणा में महामारी बेकाबू हो चली है। दूसरी लहर सभी को डरा रही है। कई दिनों से अस्पतालों के बाहर हंगामा हो रहा है और फिर मरीजों को शिफ्ट करने के लिए एंबुलेंस वालों से लेकर अस्पताल में बेड देने वाले तक सौदेबाजी करते हैं। कई अस्पतालों ने रात को अचानक तीमारदारों को बोल दिया कि ऑक्सीजन 15 से 30 मिनट की बची है, खुद ही अरेंज करो। ऐसा नहीं कर सकते तो अपने मरीज को ले जाओ। ऐसे में मुंहमांगे रेट पर अस्पताल में बेड दिया जाता है तो एंबुलेंस वाले भी मात्र एक किलोमीटर के रास्ते के लिए तीन हजार रुपए तक वसूल रहे हैं।

आपदा में ढूंढ निकाला एंबुलेंस वालों ने पैसा कमाने का अवसर, मरीज को बैठाने के इतने मांग रहे दाम

प्रदेश में लगातार महामारी के मरीजों का ग्राफ बढऩे के चलते अस्पतालों पर दबाव बढ़ता जा रहा है। बेकाबू हो रहे संक्रमण के बीच राज्य में ऑक्सीजन और वेंटिलेटर बेड़ों को लेकर असमंजस्य की स्थिति बनी हुई है। ऐसे में कुछ लोगों के लिए यह सबकुछ पैसा कमाने का अवसर बन गया है। मुहमांगे दामों पर सांसों का सौदा किया जा रहा है।

आपदा में ढूंढ निकाला एंबुलेंस वालों ने पैसा कमाने का अवसर, मरीज को बैठाने के इतने मांग रहे दाम

विकराल रुप धारण कर चुकी महामारी सभी को सताने लगी है। महामारी ने सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि विदेश में भी तबाही मचा रखी है। फरीदाबाद और गुरुग्राम हरियाणा में महामारी के हॉटस्पॉट बन गए हैं।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...