HomeFaridabadअचानक लगे लॉकडाउन से लोगों को हो सकती है परेशानी, प्रशासन की...

अचानक लगे लॉकडाउन से लोगों को हो सकती है परेशानी, प्रशासन की नहीं है तैयारी

Published on

महामारी के बढ़ते मामलों के बीच प्रदेश सरकार ने पहले जिले में पहले वीकेंड लॉकडाउन तथा अब संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा कर दी है। लॉकडाउन के इस फैसले को लेकर जिला प्रशासन की ओर से तैयारियां नहीं की गई है जिसका खामियाजा आम जनता को भुगतना पड़ेगा।


दरअसल, आपदा प्रबंधन विभाग ने शुक्रवार को प्रदेश के 9 जिलों में वीकेंड लॉकडाउन डाउन की घोषणा कर दी जिसमे फरीदाबाद में शामिल था। लॉक डाउन की घोषणा होते ही आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को रोजी- रोटी का खतरा सताने लगा जिसके बाद प्रवासी मजदूर अपने घरों की ओर पलायन करने लगे। अचानक लगे इस लॉकडाउन ने लोगों को भी असमंजस में डाल दिया है। प्रशासन की ओर से लॉकडाउन को लेकर अभी तक कोई व्यवस्था नहीं की गई है।

अचानक लगे लॉकडाउन से लोगों को हो सकती है परेशानी, प्रशासन की नहीं है तैयारी


पिछले वर्ष प्रशासन ने तमाम एनजीओ के सहयोग से सभी जरूरतमंद लोगों की मदद की। तमाम एनजीओ के द्वारा लोगों को खाने के पैकेट व सभी जरूरतमंद चीजें उपलब्ध करवाई गई थी परंतु इस बार प्रशासन को तैयारियों के लिए समय ही नहीं मिल पाया‌‌।

समय न मिलने का खामियाजा मजदूर तबके तथा आमजन को भुगतना पड़ेगा ऐसे में यह सोचने का विषय है कि क्या इस बार भी जिले में भूखमरी जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ेगा।



गौरतलब है कि जिले में महामारी के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। लगातार बढ़ते मामलों के बीच मरीज तथा तीमारदार दोनों ही हलकान हो रहे हैं प्रशासन की ओर से मदद के दावे तो किए जा रहे हैं परंतु जमीनी स्तर पर कुछ और ही देखने को मिल रहा है। ‌

अचानक लगे लॉकडाउन से लोगों को हो सकती है परेशानी, प्रशासन की नहीं है तैयारी

मरीजों के तीमारदार ऑक्सीजन को लेकर दर-दर भटक रहे हैं ऐसे में लॉकडाउन का लगना लोगों के लिए परेशानी खड़ी कर सकता है।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...