HomeFaridabadमरीज़ों की सेवा करने के चलते डॉक्टर ने खुद की खुशियों का...

मरीज़ों की सेवा करने के चलते डॉक्टर ने खुद की खुशियों का किया बलिदान, अपनी ही शादी को किया पोस्टपोंड

Published on

महामारी काल में जब सभी महामारी से बचाव और सरकार के दिशा-निर्देशों की लोग अनुपालना कर रहे हैं। लोग सुरक्षा की दृष्टि से अपने घरों में बैठे हैं। इस समय डॉक्टर अपनी जान की परवाह किए बिना दिन रात कोरोना बीमारी से पीड़ित मरीजों की देखभाल में लगे हुए हैं।

मरीजों की जान बचाने की पूरी कोशिश की जा रही है। सभी को पता है कि बीमारी की चपेट में आने के बाद इतनी गंभीर परिस्थितियों खड़ी हो जाती हैं। लेकिन स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टर नर्स व अन्य कर्मचारी समाज के लिए एक उदाहरण प्रस्तुत कर रहे हैं।

मरीज़ों की सेवा करने के चलते डॉक्टर ने खुद की खुशियों का किया बलिदान, अपनी ही शादी को किया पोस्टपोंड

इसी कड़ी में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खेड़ी कला में तैनात एसएमओ डॉक्टर हरजिंदर सिंह के नेतृत्व में कार्यरत डॉ राखी, स्टाफ नर्स सविता, सरला, पूनम, अनीता, मनीषा अन्य सभी कर्मचारी सेवा के प्रति समर्पित है। डॉ राखी अपना विशेष योगदान दे रही हैं।

वह लगातार कोरोना मरीजों की सेवा महामारी वार्ड में लगातार ड्यूटी कर रही है। वह अपने कर्तव्य के प्रति इतनी कर्मठशील है की उन्होंने कभी दिन या रात में ड्यूटी करने से कभी गुरेज नहीं किया जब भी मरीजों को उनकी सेवा की जरूरत होती है।

मरीज़ों की सेवा करने के चलते डॉक्टर ने खुद की खुशियों का किया बलिदान, अपनी ही शादी को किया पोस्टपोंड

वह अपना घर का सारा काम छोड़कर तुरंत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खेड़ी कला पहुंच जाती है। इस महामारी में खेड़ी कला के निवासी और आसपास के सोसाइटी के लोग उनकी कार्यशैली से बहुत प्रभावित हैं।

डॉ राखी समाज के लिए प्रेरणा का स्रोत भी और त्याग की एक मूर्ति भी है।उनकी शादी इसी महीने की 14 तारीख को होनी थी लेकिन कोरोना में जिस प्रकार मरीजों को परेशानियां उठानी पड़ रही है उनकी जान पर बन आई है।

मरीज़ों की सेवा करने के चलते डॉक्टर ने खुद की खुशियों का किया बलिदान, अपनी ही शादी को किया पोस्टपोंड

इन सब बातों को मद्देनजर रखते हुए डॉ राखी ने अपनी शादी को भी फिलहाल कुछ महीनों के लिए टाल दिया है। और मरीजों की जान बचाने में अपना सर्वोच्च योगदान दे रही हैं। इनकी इसी भावना को देखकर यहां कार्यरत अन्य डॉक्टर पैरामेडिकल स्टाफ नर्स भी उन्हीं की तरह कार्य करने के लिए प्रेरित हो रहे हैं।

मरीज़ों की सेवा करने के चलते डॉक्टर ने खुद की खुशियों का किया बलिदान, अपनी ही शादी को किया पोस्टपोंड

आज के समय में वैसे तो सभी डॉक्टर अपनी जान की परवाह करें बिना देश को बचाने में लगे हुए हैं। परंतु डॉ राखी ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खेड़ी कला को ही अब अपना घर बना लिया है। और यहां आने वाले मरीजों को ही अपना परिवार समझदार की सेवाएं दे रही हैं।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...