HomeLife StyleHealthऐसा क्या हुआ 95 साल की बुजुर्ग महिला के साथ कि 8...

ऐसा क्या हुआ 95 साल की बुजुर्ग महिला के साथ कि 8 दिनों में ही दे दी संक्रमण को मात

Published on

आए दिन संक्रमण के मामले और संक्रमित मरीजों की मृत्यु के मामलों में सर्वाधिक जो बात समान निकल कर आती है, वह यह है कि इस संक्रमण से बुजुर्ग व्यक्ति लड़ पाने में असमर्थ साबित हो रहे हैं।

मगर वो कहते हैं ना कि अगर मन में मजबूत इरादा और हौसले बुलंद हो तो ना उम्र का तकाजा कुछ कर सकती है ना ही कोरोना आपका कुछ बिगाड़ सकता है। कुछ इसी कथन को सत्य कर दिखाया है 95 साल की बुजुर्ग महिला ने।

ऐसा क्या हुआ 95 साल की बुजुर्ग महिला के साथ कि 8 दिनों में ही दे दी संक्रमण को मात

हम बात कर रहे हैं कोसली के गांव भडंगीं रहने वाली बुजुर्ग महिला चांदबाई की, जो करीबन एक सप्ताह पहले कोविड-19 से ग्रस्त हो गई थी। जैसे ही परिजनों को इस बात की सूचना मिली तो वह अधिक उम्र के चलते चांदबाई की सेहत को लेकर चिंतित हो गए थे।

बुजुर्ग महिला के बेटे सुबेदार मेजर हरबीर ने बताया कि 23 अप्रैल को तबीयत खराब होने पर मां की तबीयत खराब हुई और उनका कोरोना टेस्ट कराया गया। 28 अप्रैल को वह रिपोर्ट में पॉजिटिव आईं। आए दिन हॉस्पिटल से आने वाली फोन की घंटी उनके दिलों की धड़कन तेज कर देती थी, और उनकी सांसे थम सी जाती थी कि आखिर अस्पताल से आए कॉल पर क्या जानकारी मिलने वाली है।

ऐसा क्या हुआ 95 साल की बुजुर्ग महिला के साथ कि 8 दिनों में ही दे दी संक्रमण को मात

वहीं अस्पताल में दृश्य बिल्कुल विपरीत थे, दूसरी ओर चांदबाई थीं कि उनमें जीने की ललक थी और अपने स्वस्थ्य होने को लेकर पूरी तरह आश्वस्त थीं। शायद यही कारण रहा कि चांदबाई के हौंसलें के सामने कोरोना ने भी घुटने टेक दिए।

इतनी उम्र में कोरोना की जंग जीतने पर चिकित्सक भी हैरान थे और यही कारण रहा कि बुधवार को जब चांदबाई को डिस्चार्ज किया तो पूरे स्टॉफ ने तालियां बजाकर उनका स्वागत किया। अब चांदबाई दूसरे मरीज एवं लोगों से भी अपील कर रहीं हैं कि कोरोना से डरे नहीं, हौंसला बुलंद रखें जीत अवश्य होगी।

ऐसा क्या हुआ 95 साल की बुजुर्ग महिला के साथ कि 8 दिनों में ही दे दी संक्रमण को मात

इस तरह की वास्तविकता कहीं ना कहीं इस खतरनाक हालात के सामने जीने की और आत्मविश्वास की एक क्षमता को पैदा करने का काम करती है। देखा जाए तो जिस तरह से बुजुर्ग महिला ने संक्रमण को अपने जज्बे से मात दी है,

वैसे ही लोगों को थोड़ा धैर्य रखने की और जागरूक होने की जरूरत है। उन्हें समझना होगा कि हालात कितने ही नाजुक क्यों ना हो मगर उन्हें नासूर ना बनने दिया जाए। थोड़ा सा सब्र व धैर्य रखें और हालात को समय के ऊपर छोड़ दिया जाए।

Latest articles

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

More like this

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...