Online se Dil tak

स्कूल में पढ़ने वाले एक बच्चे ने खड़ी की करोड़ों की कंपनी, 100 करोड़ कमाने का रखा है लक्ष्य

अगर आप कुछ ठान लें कि यह काम तो मुझे करना ही है तो, उम्र और हालात देखे बिना उस कार्य को करने में जुट जाते हैं। बस उस काम को करने की ज्वाला होनी चाहिए। आप अपने काम से दूसरों को प्रेरणा भी देते हैं। ऐसी ही कहानी है इनकी भी। मुंबई के रहने वाले 13 साल के तिलक मेहता की कहानी किसी के लिए भी प्रेरणादायक है।

कामयाब होने की कोई उम्र नही होती। बस आपकी तत्परता और आपके प्रयासों को देखा जाता है। 8वीं का छात्र तिलक हर रोज अपने पिता को काम से थक हारकर घर आते हुए देखता था और उसे यह बात परेशान कर देती थी कि वो अपने पिता की कोई मदद नहीं कर पा रहा है। बस फिर क्या था उसने अपने पिता की मदद करने की ठानी और एक स्टार्टअप पेपर्स एंड पार्सल्स नाम से लॉजिस्टिक्स कंपनी खोल दी। 

स्कूल में पढ़ने वाले एक बच्चे ने खड़ी की करोड़ों की कंपनी, 100 करोड़ कमाने का रखा है लक्ष्य

अगर इंसान अपने में ठान ले तो कोई भी काम उसके लिए मुश्किल नही है। हर कार्य इस पृथ्वी पर संभव है। तिलक ने बताया कि ‘कई बार मुझे किताबों की जरूरत पड़ती थी तो पिताजी को दिनभर के कामों से थके देखकर उन्हें कहने की हिम्मत नहीं जुटा पाता था। यहीं से यह आइडिया आया कि मुंबई शहर के अंदर 24 घंटे में छोटे पार्सल कैसे पहुंचाएं जाएं।

स्कूल में पढ़ने वाले एक बच्चे ने खड़ी की करोड़ों की कंपनी, 100 करोड़ कमाने का रखा है लक्ष्य

इनकी उम्र तो कम है लेकीन जज्बा काफी है। हिम्मत और आगे बढ़ने का यह हुनर आपको भी उसे सलाम करने से नहीं रोक पाएगा। तिलक ने स्टार्टअप शुरू करने का ये आइडिया एक बैंक अधिकारी घनश्याम पारेख को बताया तो उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ तिलक के साथ ही जुड़ गए और कंपनी में मुख्य कार्यकारी अधिकारी के तौर पर काम करने लगे। इसके लिए तिलक ने मुंबई के डिब्बावालों की मदद ली।

स्कूल में पढ़ने वाले एक बच्चे ने खड़ी की करोड़ों की कंपनी, 100 करोड़ कमाने का रखा है लक्ष्य

कुछ भी असंभव नहीं है। बस आपके अंदर कुछ करने का जुनून होना चाहिए। यह जुनून ही आपको सबकुछ करने की हिम्मत देता है। अगर जुनून है तो ही सबकुछ है।

Read More

Recent