HomeFaridabadकिसान की फसलों के साथ साथ उनकी नस्लों का भविष्य तय करेगा...

किसान की फसलों के साथ साथ उनकी नस्लों का भविष्य तय करेगा कृषि आंदोलन, सरलार जल्द से जल्द वापस ले काले कानून: अभय सिंह चौटाला

Published on

पूर्व नेता प्रतिपक्ष एवं इंडियन नेशनल लोकदल के प्रधान महासचिव अभय सिंह चौटाला ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा दिल्ली बार्डर पर तीन काले कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों से जनहित में आंदोलन को खत्म करने की अपील करने पर पलटवार करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री को बजाय किसानों से अपील करने के उन्हें देश के प्रधानमंत्री से किसानहित एवं जनहित में तीनों कृषि कानूनों को खत्म करने की अपील करनी चाहिए।

महामारी भयंकर रूप धारण कर रही है और लगभग पूरे प्रदेश को अपनी चपेट में ले चुकी है। आंंदोलन कर रहे किसानों को भी इस महामारी की चपेट में आने की आंशका से इंकार नहीं किया जा सकता लेकिन यह तीनों काले कृषि कानून इस महामारी से भी अधिक भयंकर हैं। यह आंदोलन किसानों की फसलों के साथ-साथ उनकी नस्लों का भी भविष्य तय करेगा इसलिए किसान आर-पार की लड़ाई लडऩे को तैयार है।

किसान की फसलों के साथ साथ उनकी नस्लों का भविष्य तय करेगा कृषि आंदोलन, सरलार जल्द से जल्द वापस ले काले कानून: अभय सिंह चौटाला


इनेलो नेता ने कहा कि यहां आरोप लगाने की बात नहीं है सब कुछ जनता के सामने है कि भाजपा-गठबंधन प्रदेश की सरकार चलाने में हर मोर्चे पर बुरी तरह से विफल रहा है फिर चाहे प्रदेश मेंं स्वास्थ्य सुविधाओं का मामला हो, चाहे प्रदेश में जम कर हो रही कालाबाजारी का मामला हो, चाहे चौपट कानून व्यवस्था हो और चाहे मंडियों में किसानों की गेहूं खरीद का मसला हो।

अब तक 350 से अधिक किसान शहीद हो चुके हैं लेकिन अभी तक न तो प्रधानमंत्री और न ही मुख्यमंत्री ने सहानुभूति का एक शब्द उनके बारे में कहा है।

किसान की फसलों के साथ साथ उनकी नस्लों का भविष्य तय करेगा कृषि आंदोलन, सरलार जल्द से जल्द वापस ले काले कानून: अभय सिंह चौटाला

केंद्र सरकार ने महामारी की आड़ में ही तीनों काले कृषि कानून बनाए थे जो किसानों का डैथ वारंट हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री के पास अभी भी मौका है कि वो प्रधानमंत्री से जाकर मिलें और केंद्र द्वारा बनाए गए तीनों काले कृषि कानूनों को तुरंत खत्म करने की किसानों की मांगों को पूरा करें।

किसान की फसलों के साथ साथ उनकी नस्लों का भविष्य तय करेगा कृषि आंदोलन, सरलार जल्द से जल्द वापस ले काले कानून: अभय सिंह चौटाला


अभय सिंह चौटाला ने कहा कि समय आ गया है जब देश के प्रधानमंत्री को भी महामारी के बढ़ते संक्रमण को ध्यान में रखते हुए इतना हठ नहीं दिखाना चाहिए और अपने अहं का त्याग करके किसानों की मांग को तुरंत मान लेना चाहिए ताकि बार्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों को इस संक्रमण से बचाया जा सके और उनकी सुरक्षित घर वापसी करवाई जा सके।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...