HomeLife StyleHealthयमुना किनारे बसे झोलाछाप डॉक्टरों के नदारद होने से इलाज की कमी...

यमुना किनारे बसे झोलाछाप डॉक्टरों के नदारद होने से इलाज की कमी खलने लगी, तो वहीं ग्रामीणों में जागरूकता बढ़ी

Published on

हम जहां शहर से होता हुआ कब संक्रमण का कहर ग्रामीण क्षेत्रों में अपना प्रकोप जारी करने में जुटा हुआ है। ऐसे में फरीदाबाद के 10 फीसदी ऐसे गांव है जिनमें संक्रमण के मामले उजागर हो रहें हैं। वही अब समय समय पर ग्रामीणों का इलाज करने वाले झोलाछाप डॉक्टरों के न मिलने से स्वास्थ्य सेवाओं की कमी खल रही हैं।

आलम यह है कि अब ग्रामीण कोरोना जांच के लिए सामुदायिक-प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रोें पर पहुंचने लगे हैं। इन दिनों औसतन 300 जांच इन इलाकों में हो रही है।

यमुना किनारे बसे झोलाछाप डॉक्टरों के नदारद होने से इलाज की कमी खलने लगी, तो वहीं ग्रामीणों में जागरूकता बढ़ी

वहीं अब गांवों में निजी रूप से प्रेक्टिस करने वाले डॉक्टर शहरी परिवेश से निकलकर लोगों को इलाज देने पहुंचते हैं। कस्बों में स्वास्थ्य सेवाएं दे रहे एमबीबीएस चिकित्सक ग्रामीणों को कोरोना के चलते कोरोना जांच की निगेटिव रिपोर्ट के बाद ही सोशल डिस्टेसिंग में रह कर उपचार कर रहे हैं। वहीं वे बुखार के मरीजों को भी सीधा राजकीय अस्पताल जाने की सलाह देते दिखाई दे रहे हैं।

यमुना किनारे बसे झोलाछाप डॉक्टरों के नदारद होने से इलाज की कमी खलने लगी, तो वहीं ग्रामीणों में जागरूकता बढ़ी

इतना ही नहीं लोगों में जागरूकता का परिचय भी देखने को मिल रहा हैं। वहीं सरकारी डॉक्टरों का कहना है कि झोलाछाप गायब हुए तो लोगों ने सही तरीके से जांच और इलाज का तरीका अपनाना शुरू कर दिया है। जानकारी के मुताहिक फिलहाल वहीं इन दिनों गांवों में बीएएमएस चिकित्सकों ने ग्रामीणों से दूरी बना ली है, जबकि वहां स्थित एमबीबीएस डॉक्टर ग्रामीणों को पहले कोरोना जांच की सलाह दे रहें हैं।

यमुना किनारे बसे झोलाछाप डॉक्टरों के नदारद होने से इलाज की कमी खलने लगी, तो वहीं ग्रामीणों में जागरूकता बढ़ी

वहीं जहां पहले मास्क से गुरेज करने वाले लोग इन दिनों सैनिटाइजर के साथ नजर आ रहे हैं। जिले को कौराली स्थित सामुदायिक केंद्र पर हर दिन सौ से अधिक लोग जांच व टीकाकरण के लिए पहुुंच रहे हैं। तिगांव सीएचसी में रोजाना डेढ़ सौ से दो सौ ग्रामीण अपनी जांच करा रहे हैं। यहां पहुंचने वाले तमाम लोगों के लिए जांच आवश्यक रखी गई है चाहे वह किसी कार्य के लिए अस्पताल में पहुंचा हो।

Latest articles

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

More like this

श्री राम नाम से चली सरकार भूले तुलसी का विचार और जनता को मिला केवल अंधकार (#_बजट): भारत अशोक अरोड़ा

खट्टर सरकार ने आज राज्य के लिए आम बजट पेश किया इस दौरान सीएम...

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...