HomeLife StyleHealth"महामारी क्या बड़ी चीज हैं" हरियाणा के इस गांव में लोग...

“महामारी क्या बड़ी चीज हैं” हरियाणा के इस गांव में लोग बचने के लिए दवा की जगह कर रहे हैं यह उपाय

Published on

हरियाणा का दिल कहे जाने वाले जींद जिले में महामारी का ग्रहण मजबूत होता हुआ दिखाई दे रहा है। वैसे तो यहां के बांगर बेल्ट को मजबूत इम्यूनिटी सिस्टम वाला कहा जाता है परंतु यहां संक्रमण की महामारी के जो संकेत मिल रहे हैं उसे कदापि उचित नहीं कहा जा सकता।

दरअसल, यह कोरोना है या कुछ और, यह तो भोले-भाले ग्रामीण नहीं जानते, लेकिन कहते हैं कि अब दो दिन के बुखार के बाद ही सांसें थम जाती हैं। शायद यहां आकर कोरोना की फितरत ही बदल गई है।

"महामारी क्या बड़ी चीज हैं" हरियाणा के इस गांव में लोग बचने के लिए दवा की जगह कर रहे हैं यह उपाय

ग्रामीणों की बात करें तो उनका कहना हैं कि गांव में युवा सबसे ज्यादा खासी-बुखार की चपेट में हैं और सैंपलिंग करवाने से भी डरते हैं। कहते हैं कि इसी से कोरोना फैलता है और फिर अस्पताल जाना पड़ेगा। अस्पताल गए तो मुक्ति धाम के रजिस्टर में ही एंट्री होगी, घर वापसी की उम्मीद कम ही है।

यह बात ग्रामीणों के मुंह से सच भी लगती है। कारण, एक मई से लेकर अब तक कई गांवों में युवाओं की इन्हीं लक्षणों के साथ मौत हुई है। दो दिन तक बुखार आता है और फिर हार्ट अटैक से मौत हो जाती है। गांव घिमाणा के महिला सरपंच के ससुर साहब सिंह की उनके गांव में ही चार युवाओं की मौत इन्हीं लक्षणों के साथ हुई है।

"महामारी क्या बड़ी चीज हैं" हरियाणा के इस गांव में लोग बचने के लिए दवा की जगह कर रहे हैं यह उपाय

गांवों में अब सैंपलिंग और वैक्सीन लगवाने से ग्रामीण बच रहे हैं। इसके अलावा गांवों में धूप करने और हवन की धूणी लगाने पर ज्यादा विश्वास बढ़ रहा है। हर गांव में उसकी मान्यता के अनुसार ही धूणी या धूप करने का प्रचलन तेजी से बढ़ रहा है। इसके पीछे ग्रामीणों की सोच है कि जब पशुओं का ही रोग कट जाता है तो इसके आगे कोरोना का भी समाधान होगा।

"महामारी क्या बड़ी चीज हैं" हरियाणा के इस गांव में लोग बचने के लिए दवा की जगह कर रहे हैं यह उपाय

जींद सिविल अस्पताल के डिप्टी एमएस डॉ. राजेश भोला कहते हैं कि कोरोना के कारण गांव में हालात काफी खराब हैं। उन्होंने स्वयं कभी पिछले 22 साल से सिविल अस्पताल में ऐसे हालात नहीं देखे थे कि मरीजों को इमरजेंसी के बाहर ही चारपाई पर ऑक्सीजन देनी पड़े। गांव से काफी संख्या में गंभीर रोगी अस्पताल पहुंच रहे हैं। इससे बचाव का एक ही तरीका है कि समय रहते मरीज को तुरंत इलाज दिया जाए।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...