HomeFaridabadब्लैक फंगल बीमारी से निपटने के लिए जिले के दो मेडिकल कॉलेज...

ब्लैक फंगल बीमारी से निपटने के लिए जिले के दो मेडिकल कॉलेज में 20- 20  बेड का बनाया वार्ड

Published on

प्रदेश में ब्लैक फंगल को अधिसूचित बीमारी घोषित कर दिया है। जिसके चलते औद्योगिक नगरी मैं भी इस बीमारी के कई मामले सामने आए हैं। इस बीमारी से जूझने के लिए स्वास्थ्य विभाग के द्वारा तैयारियों को शुरू कर दिया गया है।

सभी अस्पतालों को निर्देश जारी किए गए हैं। इसके तहत सभी अस्पतालों को ब्लैक संदल के मरीजों का रिकॉर्ड रखना होगा। इसके अलावा इस रिकॉर्ड को स्वास्थ्य विभाग के साथ साझा भी करना होगा। इसके लिए एपिडेमियोलॉजिस्ट डॉक्टर रितु सिंह को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है।

ब्लैक फंगल बीमारी से निपटने के लिए जिले के दो मेडिकल कॉलेज में 20- 20  बेड का बनाया वार्ड

बताया जा रहा है कि महामारी से ग्रस्त मरीज मात देने के बाद ब्लैक फंगल की परेशानी से जूझ सकते हैं। इसीलिए जिले के लगभग सभी बड़े अस्पतालों में लोग ब्लैक फंगल की समस्या को लेकर पूछ रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार अब तक जिले में करीब 25 ब्लैक फंगल से ग्रस्त मरीज पाए गए हैं जिन का इलाज निजी अस्पताल में चल रहा है।

ब्लैक फंगल बीमारी से निपटने के लिए जिले के दो मेडिकल कॉलेज में 20- 20  बेड का बनाया वार्ड

इसके अलावा ब्लैक फंगल के मरीजों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। क्योंकि महामारी से ग्रस्त मरीजों ठीक होने की संख्या में इजाफा देखने को मिल रहा है। इसलिए आने वाले समय में माना जा रहा है कि ब्लैक फंगल के मरीजों की संख्या में भी इजाफा हो सकता है।

इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग के द्वारा ईमेल आईडी भी जारी की गई है। जिसमें निजी अस्पतालों की ओपीडी व आई पी डी में अगर कोई ब्लैक फंगल बीमारी को लेकर मरीज आता है। तो उसकी जानकारी ईमेल के जरिए स्वास्थ्य विभाग को दी जाएगी।

ब्लैक फंगल बीमारी से निपटने के लिए जिले के दो मेडिकल कॉलेज में 20- 20  बेड का बनाया वार्ड

इसके अलावा जिले के दो मेडिकल कॉलेज 20-20 बेड वाला वार्ड तैयार किया गया है। जिसमें ब्लैक फंगल के मरीजों का इलाज किया जाएगा। बताया जा रहा है कि यह ई एस आई सी मेडिकल कॉलेज में तो सिर्फ फरीदाबाद के मरीजों का इलाज किया जाएगा। वहीं अलफलाह मेडिकल कॉलेज में फरीदाबाद व पलवल दोनों के मरीजों का इलाज किया जाएगा।

पहले आओ पहले पाओ

ब्लैक फंगस के इलाज में आवश्यक माना ज एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए एक कमेटी का गठन का किया गया है। कमेटी कमेटी के आदेश आने के बाद ही इंजेक्शन की आपूर्ति होगी इसके लिए अस्पताल के परफॉर्मा भरकर इस ईमेल आईडी पर amphoharyana@gmail.com पर भेजना होगा। उच्च अधिकारियों के निर्देश अनुसार सरकारी अस्पतालों में यह इंजेक्शन फ्री में मिलेगा। वहीं निजी अस्पतालों में इसकी रेट को निर्धारित किया गया है। इंजेक्शन की आपूर्ति के लिए जो व्यक्ति पहले आएगा उसको मिल जाएगा यानी पहले आओ और पहले पाओ।

ब्लैक फंगल बीमारी से निपटने के लिए जिले के दो मेडिकल कॉलेज में 20- 20  बेड का बनाया वार्ड

ब्लैक फंगल के लक्षण

– महामारी से ठीक होने के बाद सिर में दर्द।

– नाक व आंख से पानी आना।

– आंख व नाक में सूजन।

– आंख के चारों तरफ दर्द होना।

– धुंधला या नहीं दिखाई देना।

– साइनस के लक्षण होना।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...