Pehchan Faridabad
Know Your City

फरीदाबाद अस्पताल में लगी मशीन मात्र 2 घंटे में देगी कोरोना वायरस की रिपोर्ट

हरियाणा जिला अपने आप मे अपनी अलग पहचान रखता था पहले उसकी पहचान ओद्यौगिक नगरी के नाम से थी। जिसे जिले को स्मार्ट सिटी का तमगा हासिल हो चुका है। आज यही फरीदाबाद अपनी पहचान खोता जा रहा है। अब यह जिला कोरोना वायरस के हॉट स्पॉट के रूप में प्रचलित हो रहा है। अब फरीदाबाद जहां एक तरफ इक्का दुक्का मरीजों कि पुष्टि होती थी अब हर दिन यहां कोरोना वायरस का विस्फोट होता है।

जैसे हालात फरीदाबाद के मौजूद समय में है अगर आने वाले समय में सुधार नहीं हुआ तो खतरे कि घंटी कभी भी आपके कानों में गूंज उठेगी। आपतकाल स्थिति को देखते हुए अब स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिले के नागरिक अस्पताल में कोरोना वायरस के मरीजों का टेस्ट करने का बीड़ा उठाने का प्रयास किया है।

मंगलवार को अस्पताल में जो मशीन लगाई गई है, इससे मात्र डेढ़ से 2 घंटे में मरीज के सैंपल की रिपोर्ट आ जाएगी। मंगलवार को बीके अस्पताल की पीएमओ डॉ. सविता यादव ने रिबन काटकर इसका उद्घाटन किया।

अस्पताल में दाखिल होने वाले सभी मरीजों की इमरजेंसी के दौरान मरीजों के लिए यह काफी परेशानी भरा होता है। लैब में सैंपल देने के बाद उसे जांच के लिए ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज की आरटीपीसीआर लैब में भेजा जाता है। वहां से रिपोर्ट आने में 48 घंटे या उससे अधिक समय लग जाता है। ऐसे में इमरजेंसी के माध्यम से अस्पताल में दाखिल होने वाले मरीज से संक्रमण का खतरा बना रहता है।

ऐसे में अब बीके अस्पताल में ही मशीन लगा दी गई है, जिससे इमरजेंसी में मरीज की कोविड-19 जांच हो सकेगी। यह मशीन टीबी की जांच के काम आती है और पल्ला स्थित स्वास्थ्य केंद्र पर टीबी की जांच के लिए इसे मंगाया गया था, लेकिन फिलहाल महामारी को देखते हुए इसे बीके अस्पताल में इंस्टॉल कर दिया गया है। इस मशीन से डेढ़ से 2 घंटे में ही कोरोना सैंपल की जांच हो सकेगी। रिपोर्ट के हिसाब से मरीज का इलाज किया जा सकेगा।

हालांकि, मरीज का सैंपल ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज में जांच के लिए भेजा जाएगा और वहां की रिपोर्ट के बाद ही संक्रमण की पुष्टि होगी, लेकिन प्राथमिक रिपोर्ट के आधार पर मरीज का इलाज करने में सहूलियत होगी और संक्रमण के खतरे को कम किया जा सकेगा। मशीन इंस्टॉल होने के दौरन डिप्टी सिविल सर्जन डॉ. शीला भगत, डॉ. संजीव भगत, डॉ. हेमंत, डॉ. कीर्ति, डॉ. रचना शर्मा, डॉ. हेमंत, राजकुमार व लैब टेक्नीशियन राकेश मुख्य रूप से मौजूद रहे।

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More