HomePublic Issue5287 गांवों को 24 घंटे बिजली आपूर्ति साबित हुआ झूठ, बावजूद 17...

5287 गांवों को 24 घंटे बिजली आपूर्ति साबित हुआ झूठ, बावजूद 17 नए गांव को शामिल करने का नया ढोंग

Published on

हरियाणा सरकार ने अपने विकास के कार्यों को शहर तक सीमित न रख कर गांव गांव को भी जगमगन करने का दम भर था। अब एक बार फिर इसी कड़ी में हरियाणा सरकार द्वारा प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों को शहरी तर्ज पर 24 घंटे बिजली उपलब्ध करवाने के उद्देश्य से ‘म्हारा गांव जगमग गांव’ योजना को आगे बढ़ाते हुए 18 मई को 17 और नए गांवों को इस योजना में शामिल किया गया है।

इस योजना के तहत सोनीपत के 9 गांव (रतनगढ़, जाट माजरा, चिताना, भटाना, गढ़ी हकीकत, कारेवाड़ी, बड़वासनी, हुल्लाहेड़ी और डेरा), रोहतक के 5 (कलिंगा, ककराना, बलियाना, घिल्लोर कलां और घिल्लोर खुर्द), और पानीपत (सिमला), झज्जर (माजरा) व कैथल (हजवाना) जिले के एक-एक गांव शामिल हैं।

5287 गांवों को 24 घंटे बिजली आपूर्ति साबित हुआ झूठ, बावजूद 17 नए गांव को शामिल करने का नया ढोंग

जानकारी के मुताबिक ‘म्हारा गांव जगमग गांव’ योजना के तहत अब प्रदेश के 5287 गांवों को 24 घंटे बिजली आपूर्ति मिल रही है। वर्तमान में प्रदेश के 75 प्रतिशत गांवों को पूरी तरह जगमग किया जा चुका है तथा इससे प्रदेश के 10 जिले जिनमें पंचकूला, अंबाला, कुरुक्षेत्र, यमुनानगर, करनाल, गुरुग्राम, फरीदाबाद, सिरसा, रेवाड़ी और फतेहाबाद शामिल है, जहां 24 घंटे बिजली उपलब्ध है।

5287 गांवों को 24 घंटे बिजली आपूर्ति साबित हुआ झूठ, बावजूद 17 नए गांव को शामिल करने का नया ढोंग

इस संबंध में जानकारी देते हुए बिजली निगम के प्रवक्ता ने बताया कि ‘म्हारा गांव जगमग योजना’ की शुरुआत 1 जुलाई, 2015 को कुरुक्षेत्र जिले के दयालपुर गांव से मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा की गई।मगर इतने सालों बाद भी सरकार अपने वादों पर खरा उतर पाने में असमर्थ साबित हुई हैं। आए दिन शहरों में बिजली कटौती के लिए आमजन सरकार पर ठीकरा फोड़ कर अपना विरोध प्रदर्शन किया करती हैं। मगर आलम यह रहता है कि हल्की सी बूंदाबांदी हुई नही कि घर में लाइट की आंख मिचौली चालू हो जाती हैं।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...