HomeFaridabadमहामारी से बचना है तो करो एस एम एस का प्रयोग, जानिए...

महामारी से बचना है तो करो एस एम एस का प्रयोग, जानिए क्या है एस एम एस

Published on

जैसा कि आप सभी जानते हैं, महामारी का दौर तो कम होता हुआ नजर आ रहा है। लेकिन महामारी से ठीक होने वाले मरीज अब एक नए फंगल की चपेट में आ रहे हैं जिसका नाम बताया जा रहा है ब्लैक फंगल। जोकि ज्यादातर मरीजों के चेहरे व लंग पर इफ़ेक्ट कर रहा है।

महामारी और ब्लैक फंगल से अगर किसी व्यक्ति को बचना है तो वह एस एम एस का प्रयोग करें s.m.s. ज्ञानी सैनिटाइजर, मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग। पहले जहां स्वास्थ्य विभाग के द्वारा कहा जा रहा था कि अगर आपको महामारी से बचना है तो मास्क कर सैनिटाइज का प्रयोग करें।

महामारी से बचना है तो करो एस एम एस का प्रयोग, जानिए क्या है एस एम एस

लेकिन अगर अब किसी भी व्यक्ति को किसी बीमारी से अगर बचना है तो वह एसएमएस को अपनाएं। ताकि वह आने वाले समय में किसी भी बीमारी की चपेट में ना आ सके। अपने आप को व अपने परिवार को सुरक्षित रख सके। एस एम एस का अर्थ है। सैनिटाइज, मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग।जहां पहले स्वास्थ्य विभाग के द्वारा कहां जा रहा था कि 2 गज की दूरी व मास्क है जरूरी।

लेकिन अब यही टैगलाइन बदलकर हो गई है। 6 गज की दूरी और मास्क व सैनिटाइज है जरूरी। ग्रीन फील्ड कॉलोनी के रहने वाले डॉक्टर दीवान ने बताया कि ब्लैक फंगल सिर्फ महामारी से ग्रस्त होकर ठीक होने वाले लोगों को नहीं हो रही है।

महामारी से बचना है तो करो एस एम एस का प्रयोग, जानिए क्या है एस एम एस

बल्कि उन लोगों को हो रही है जिनकी इम्यूनिटी पावर काफी कमजोर है या फिर यूं कहें जो सैनिटाइजेशन मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का प्रयोग नहीं कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि पहले 2 गज की दूरी को अपनाया जा रहा था।लेकिन जब से ब्लैक फंगल बीमारी शहर में आई है।

तब से यह 6 गज की दूरी हो गई है। इसके अलावा उन्होंने बताया कि सैनिटाइज की जगह अगर आप घर पर मौजूद है। तो साबुन का इस्तेमाल करें और ज्यादा से ज्यादा संख्या में अपने हाथों को साफ रखें। वहीं उन्होंने यह भी कहा है कि अगर आप घर में अपने परिवार के साथ रह रहे हैं।

महामारी से बचना है तो करो एस एम एस का प्रयोग, जानिए क्या है एस एम एस

तो मास्क का प्रयोग करें। यह कोई जरूरी नहीं है कि मस्क का प्रयोग बाहर ही किया जा सकता है। फंगल घर के अंदर भी हो सकता है। इसीलिए आप जब भी किसी अपने परिचित के साथ बैठते हैं।तो मस्क का प्रयोगकरें। इसलिए चाहे आप घर के अंदर हो या घर के बाहर s.m.s. का प्रयोग अवश्य करें।

महामारी से बचना है तो करो एस एम एस का प्रयोग, जानिए क्या है एस एम एस

ताकि आप आने वाले समय में किसी भी महामारी की चपेट में न आ सकें। अपने और अपने परिवार को सुरक्षित रख सके। इसी संदेश को लेकर डीसीपी हेड क्वार्टर डॉक्टर अर्पित जैन के द्वारा ट्वीट करके लोगों को जागरूक किया गया है। उन्होंने कहा है कि घर से निकलते वक्त s.m.s. को याद रखें।

यानी सैनिटाइज मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग। इन तीनों की वजह से ही आप महामारी व अन्य बीमारी की चपेट में आने से बच सकते हैं और लोगों को ज्यादा ज्यादा जागरूक करें। ताकि वह भी इसका पालन करें और शहर को जल्द ही इन सभी बीमारियों से मुक्त किया जा सके।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...