Homeलोगों के घरों में जूठें बर्तन धोने से लेकर IPS बनने का...

लोगों के घरों में जूठें बर्तन धोने से लेकर IPS बनने का सफर, जानिये इस अफसर की संघर्षभरी कहानी

Published on

कुछ कर दिखाने का अगर जुनून हो तो कुछ भी असंभव नहीं है। इस दुनिया में इंसान एक धावक है और ये जीवन बाधा दौड़ का एक मैदान । हर इंसान इस मैदान पर दौड़ना तो सीख लेता है लेकिन बाधाओं को पार करने और निरंतर आगे बढ़ते रहने का हुनर हर किसी के पास नहीं होता। जो लोग इस हुनर के साथ पैदा होते हैं उन्हें फर्क नहीं पड़ता कि वह किन परिस्थितियों में पल रहे हैं। उनका ध्यान सिर्फ उस लक्ष्य पर होता है जिसे उन्होंने भेदना है।

मन में लक्ष्य और दिमाग में तत्परता तो कुछ भी कर दिखाने का जोश पैदा हो ही जाता है। यह कहानी भी एक ऐसी महिला आईपीएस ऑफिसर की है जो अपने जीवन में आने वाली तमाम परेशानियों को नजरअंदाज करते हुए आगे बढ़ती गईं।

लोगों के घरों में जूठें बर्तन धोने से लेकर IPS बनने का सफर, जानिये इस अफसर की संघर्षभरी कहानी

आज इस मुकाम पर यह पहुंची हैं वो आसान नहीं था। काफी मेहनत थी इसमें। आज भी देश में कई ऐसे क्षेत्र हैं जहां के लोग बेटियों की पढ़ाई पर खर्च करना फ़िज़ूल समझते हैं । आज के प्रगतिशील दौर में भी उनके दिमाग में यही बात घर कर के बैठी है कि बेटियों को तो एक ना एक दिन पराया ही होना है फिर क्यों उनकी पढ़ाई पर खर्च किया जाए। इल्मा अफ़रोज़ का जन्म भी ऐसी ही मानसिकता वाले लोगों के बीच हुआ।

लोगों के घरों में जूठें बर्तन धोने से लेकर IPS बनने का सफर, जानिये इस अफसर की संघर्षभरी कहानी

उन्होंने कुछ करने का ठान लिया था। कुछ करने की जब आप ठान लेते हैं तो कोई भी कुछ भी बोले आपको फरक नहीं पड़ता। यूपी के एक शहर मुरादाबाद के छोटे से गांव की एक लड़की जिसने खेतों में काम किया और लोगों के घरों के बर्तन भी साफ किए। लेकिन अपने जज्बे को किसी भी कीमत में कम नहीं होने दिया। एकाग्र लक्ष्य और कड़ी मेहनत ने उसके सपनों को आईपीएस ऑफिसर बनाया।

लोगों के घरों में जूठें बर्तन धोने से लेकर IPS बनने का सफर, जानिये इस अफसर की संघर्षभरी कहानी

वह जब 14 साल की थी तभी उनके पिता का निधन हो गया। लेकिन इल्मा ने इस बात पर ध्यान दिया कि अगर किसी चीज को शिद्दत से चाहो तो उसे मिलाने में सारी कायनात आपके साथ होती है।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...