Homeकिन्नर ने सिस्टम के खिलाफ जंग लड़कर पाई नौकरी, नहीं मानी कभी...

किन्नर ने सिस्टम के खिलाफ जंग लड़कर पाई नौकरी, नहीं मानी कभी हार आज हैं देश की पहली ट्रांसजेंडर पुलिस कांस्टेबल

Published on

कभी हार नहीं माननी चाहिए। लड़ाई चाहे किसी व्यक्ति से हो संस्था से हो या फिर देश के सिस्टम से। आपको हमेशा आगे बढ़ता रहना चाहिए। सपने तो हर कोई देखता है लेकिन इन्हे पूरा करने का हौंसला 10 में से एक इंसान के पास होता है। ज्यादातर लोग कठिन रास्ते को देखकर अपना रास्ता बदल लेते हैं लेकिन जो बिना रुके बिना थके परिश्रण करते है उनके सपने जरुर पूरे होते है।

ऐसा ही एक सपना देखा था राजस्थान की पहली किन्नर कांस्टेबल गंगा कुमारी ने। राजस्थान राज्य की गंगा कुमारी देश की पहली ट्रांसजेंडर पुलिस कांस्टेबल नियुक्त की गई हैं। उनके सपने के बीच देश का कानून आकर खड़ा हो गया। लेकिन गंगा ने अपनों के साथ पूरे सिस्टम के खिलाफ खड़ी होकर आवाज उठाई।

किन्नर ने सिस्टम के खिलाफ जंग लड़कर पाई नौकरी, नहीं मानी कभी हार आज हैं देश की पहली ट्रांसजेंडर पुलिस कांस्टेबल

गंगा ने कभी हार नहीं मानी। आज कई किन्नरों के लिए गंगा प्रेरणा बन गयी हैं। गंगा कुमारी की यह नियुक्ति राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश पर की गई। राजस्थान हाईकोर्ट ने 13 नवम्बर 2017 को किन्नर गंगा कुमारी के पक्ष में फैसला सुनाया था। राजस्थान हाईकोर्ट के इस निर्णय के बाद प्रदेश के अन्य किन्नरों के लिए सरकारी नौकरी के दरवाजे खुल गए।

किन्नर ने सिस्टम के खिलाफ जंग लड़कर पाई नौकरी, नहीं मानी कभी हार आज हैं देश की पहली ट्रांसजेंडर पुलिस कांस्टेबल

गंगा ने साल 2013 में पुलिस भर्ती परीक्षा पास की लेकिन किस्मत को कुछ और मंजूर था। मेडिकल जांच में पता चला की गंगा किन्नर है। जिसकी वजह से उनकी नियुक्ति को रोक दिया गया था। गंगा कुमारी की याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने राजस्थान पुलिस विभाग को उसे नियुक्ति देने के आदेश दिए। राजस्थान हाईकोर्ट के फैसले से गंगा कुमारी देश में पहली ट्रांसजेंडर पुलिस कांस्टेबल बनी।

किन्नर ने सिस्टम के खिलाफ जंग लड़कर पाई नौकरी, नहीं मानी कभी हार आज हैं देश की पहली ट्रांसजेंडर पुलिस कांस्टेबल

इस कठिन सफर में उनको कई लोगों ने कहा कि वह लड़ाई हार जाएंगी। उनका हौसला बुलंद था। गंगा अपनी किस्मत को कोसते नहीं बैठी बल्कि पूरे सिस्टम के खिलाफ हाई कोर्ट की शरण ली। गंगा कुमारी का यह सफर आसान नहीं था।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...