Homeपहले ही प्रयास में कड़ी मेहनत और लगन के साथ किसान के...

पहले ही प्रयास में कड़ी मेहनत और लगन के साथ किसान के बेटे ने ऐसे पास की UPSC परीक्षा, घर में सब हो गए भावुक

Published on

समय बदलते ज़रा भी वक्त नहीं लगता है। आपको बुरे वक्त में बस कभी हिम्मत नहीं हारनी चाहिए। IAS मुकुंद कुमार ने भी अपने लक्ष्य के रास्तें में आनेवाली सभी बाधाओं का डटकर सामना किया और अंततः अपनी मंजिल तक पहुंच ही गए। जब हम टॉपर्स की बात करते हैं तो हमारे सामने कई तरह के कैंडिडेट्स आते हैं। कोई पहली बार में सेलेक्ट होता है तो कोई पांचवी बार में तो कोई बार-बार किसी न किसी स्टेज पर फेल होता है।

किसी भी इंसान को सफलता के लिए कड़ी मेहनत के साथ सबकुछ हासिल करने की राह पर निकलना पड़ता है। टॉपर मुकुंद की बात ही अलग है जिन्होंने कुछ ज्यादा ही दूरदर्शिता दिखाई और पहला अटेम्प्ट देने के पहले परीक्षा के लिए जरूरी सभी पहलुओं पर अपनी पकड़ मज़बूत करने के बाद मैदान में उतरे। जब तक वे अपनी तैयारियों से संतुष्ट नहीं हो गए उन्होंने परीक्षा दी ही नहीं।

पहले ही प्रयास में कड़ी मेहनत और लगन के साथ किसान के बेटे ने ऐसे पास की UPSC परीक्षा, घर में सब हो गए भावुक

इंसान को कभी हार नहीं माननी चाहिए। आपका हौसला बुलंद होना चाहिए मुकाम तो मिल ही जाता है। जब मुकुंद ने तय किया कि उन्हें यह एग्जाम देना है उसके बाद वे दिन रात तैयारियों में जुट गए और एक बार अपनी प्रिपरेशन को लेकर आश्वस्त होने के बाद ही उन्होंने पहला अटेम्प्ट दिया। नतीजा वही हुआ जैसा मुकुंद ने सोचा था। पहली ही बार में मुकुंद ने 54वीं रैंक के साथ टॉप किया।

पहले ही प्रयास में कड़ी मेहनत और लगन के साथ किसान के बेटे ने ऐसे पास की UPSC परीक्षा, घर में सब हो गए भावुक

मुकुंद बताते हैं कि जब वे प्राथमिक स्कूल में पढ़ रहे थे तभी उन्हें आईएएस के बारे में जानकारी मिली। इस परीक्षा को पास करने या इसकी तैयारी में लगने वाले समय को आप तभी धैर्य और सकारात्मकता के साथ गुजार सकते हैं जब आपके अंदर तगड़ा मोटिवेशन हो। मोटिवेशन आता है साफ नियत से। जब आपका परीक्षा देकर इस पद पर पहुंचने कारण सच्चा और सेवा भाव से भरा होता है तो किसी और को आपको मोटिवेट नहीं करना पड़ता। आप खुद ही मोटिवेटेड रहते हैं और निरंतर लक्ष्य प्राप्ति के मार्ग पर बिना थके चलते रहते हैं।

पहले ही प्रयास में कड़ी मेहनत और लगन के साथ किसान के बेटे ने ऐसे पास की UPSC परीक्षा, घर में सब हो गए भावुक

आपको एकाग्रता के साथ लक्ष्य तक पहुंचना होता है। यह मायने नहीं रखता कि आप कहां से आते हैं। यूपीएससी की परीक्षा पास करने वाले तमाम कैंडिडेट्स की कहानी काफी प्रेरणादायक होती है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...