Home10 सालों तक लगातार हुए अपने प्रयासों में असफल, नहीं मानी हार...

10 सालों तक लगातार हुए अपने प्रयासों में असफल, नहीं मानी हार आज बन गए हैं IAS अफसर कड़ी मेहनत से

Array

Published on

संघर्ष से जबतक मुलाकात नहीं होगी तब तक सफलता का मतलब पता नहीं चलेगा। समय बदलते ज़रा भी वक्त नहीं लगता है। आपको बुरे वक्त में बस कभी हिम्मत नहीं हारनी चाहिए। यशवंत मीणा ने साल 2019 की यूपीएससी सीएसई परीक्षा अपने पांचवें अटेम्प्ट में पास की। पहले भी वे चार बार परीक्षा दे चुके थे लेकिन उनका सेलक्शन नहीं हुआ था। पांच प्रयासों को अगर मोटे तौर पर सालों में बदलें तो कम से कम सात साल का समय यशवंत को लगा।

यूपीएससी की परीक्षा पास करने वाले तमाम कैंडिडेट्स की कहानी काफी प्रेरणादायक होती है। किसी एग्जाम को क्रैक करने के लिए अपने जीवन के इतने साल देना आसान नहीं होता वह भी तब जब इस परीक्षा में सफलता की कोई गारंटी नहीं है। इतने सालों तक यशवंत ने खुद को कैसे मोटिवेटेड रखा और कैसे मेन्स में आंसर लिखकर चयन सुनिश्चित किया।

10 सालों तक लगातार हुए अपने प्रयासों में असफल, नहीं मानी हार आज बन गए हैं IAS अफसर कड़ी मेहनत से

यूपीएससी परीक्षा के लिए आमतौर पर यह माना जाता है कि यह दुनिया की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है। यशवंत जयपुर, राजस्थान के रहने वाले हैं। उनकी शुरुआती पढ़ाई भी वहीं हुई। यशवंत ने यूपीएससी की तैयारी शुरू करने से पहले बीटेक किया है। बीटेक पूरा होने के तुरंत बाद से यशवंत यूपीएससी परीक्षा की तैयारी करने लगे थे पर उनका सेलेक्शन नहीं हो रहा था। तीसरे प्रयास में तो यशवंत इंटरव्यू राउंड तक पहुंच गए लेकिन तब भी चयनित नहीं हुए।

10 सालों तक लगातार हुए अपने प्रयासों में असफल, नहीं मानी हार आज बन गए हैं IAS अफसर कड़ी मेहनत से

आपको एकाग्रता के साथ लक्ष्य तक पहुंचना होता है। मंजिल कितनी भी दूर हो कभी हिम्मत नहीं हारना चाहिए क्योंकि पहाड़ों से निकलने वाली नदी कभी किसी से सागर का रास्ता नहीं पूछती। तीसरे प्रयास में भी चयनित नहीं हो कर, इसे जहां लोग निराशा भरी बात कहेंगे वहीं यशवंत को इसमें भी आशा की किरण नजर आई। उन्हें प्रेरणा मिली कि जब वे यहां तक पहुंच सकते हैं तो आगे भी पहुंच सकते हैं। यशवंत ने अपने बचपन के सपने को पाने के लिए कमर कसी और बार-बार की हार से विचलित हुए बिना अटेम्प्ट्स देते गए।

10 सालों तक लगातार हुए अपने प्रयासों में असफल, नहीं मानी हार आज बन गए हैं IAS अफसर कड़ी मेहनत से

किसी भी इंसान को सफलता के लिए कड़ी मेहनत के साथ सबकुछ हासिल करने की राह पर निकलना पड़ता है। आपको एकाग्रता के साथ लक्ष्य तक पहुंचना होता है। यह मायने नहीं रखता कि आप कहां से आते हैं।

Latest articles

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...

Haryana के इस शख्स ने किया Bollywood के सुपरस्टार ऋतिक रोशन के साथ काम, इससे पहले भी कर चुके है कई फिल्मों में काम

प्रदेश के युवा या बुजुर्ग सिर्फ़ खेल या शिक्षा के मैदान में ही तरक्की...

More like this

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित हुआ दो दिवसीय बसंतोत्सव

अरूणाभा वेलफेयर सोसायटी , फरीदाबाद द्वारा आयोजित दो दिवसीय बसंतोत्सव के शुभ अवसर पर...

आखिर क्यों बना Haryana के टीचर का फॉर्म हाउस पूरे प्रदेश में चर्चा का विषय, यहां पढ़ें पूरी ख़बर

आज के समय में फॉर्म हाउस बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन हरियाणा...

Faridabad का ये किसान थोड़ी सी समझदारी से आज कमा रहा लाखों, यहां जानें कैसे

आज के समय में देश के युवा शिक्षा, स्वास्थ आदि क्षेत्रों के साथ साथ...