Homeशादी के 20 साल बाद दो बच्चों की मां बनीं कलेक्टर, बहुत...

शादी के 20 साल बाद दो बच्चों की मां बनीं कलेक्टर, बहुत ही प्रेरणादायक है इनकी कहानी

Array

Published on

कहते हैं कि इंसान चाहे तो वह जीवन भर ना केवल कुछ ना कुछ सीखता है, बल्कि अपने जीवन को संवारने की दिशा में कुछ नया भी कर सकता है। यह कहानी औरंगाबाद जिला पंचायती राज पदाधिकारी मुकेश कुमार की पत्नी शिखा सिन्हा की है। जो वर्तमान में पटना जिला के उप निर्वाचन पदाधिकारी हैं। शिखा बचपन में वह अधिकारी बनने की सपना देखती थी, लेकिन कम उम्र में उनकी शादी हो गई।

जीवन जीने का नाम है, इसलिए बहुत से लोग उस उम्र में भी पढाई लिखाई और नया काम करते हैं, जब उनके हौंसलों की उड़ान जमीन की ओर होती है। उस वक्त वह इंटर तक पढ़ाई की थी। इसके बाद पढ़ाई पर बिराम लग गया। पति, सास, ससुर व संयुक्त परिवार की सेवा में जुट गई। फिर दो बच्चों की परवरिश में लग गई, लेकिन हौंसला नहीं हारी।

शादी के 20 साल बाद दो बच्चों की मां बनीं कलेक्टर, बहुत ही प्रेरणादायक है इनकी कहानी

आत्मविश्वास था वह कुछ भी कर सकती हैं। विपरित परिस्थितियाें में वह सफलता प्राप्त कर न सिर्फ शादीशुदा महिलाओं बल्कि पूरे समाज के लिए प्रेरणास्रोत बनी। सीधे तौर पर कहें तो इस महिला ने अपने विवाह के 20 साल बाद तब इस मंजिल को पाया, जब वह दो बड़े बच्चों की मां भी बन चुकी थी। परंतु उनकी खासियत यह है कि उन्होंने कभी अपनी इच्छा को मरने नहीं दिया। यही वजह है कि कुदरत ने भी उन्हें अपनी इच्छा को करने का अवसर प्रदान किया।

Who are the best female IAS/IPS officers in India? - Quora

किसी भी इंसान को सफलता के लिए कड़ी मेहनत के साथ सबकुछ हासिल करने की राह पर निकलना पड़ता है। शिखा सिन्हा सासाराम की रहने वाली है। 2002 में उनकी शादी गया के रहने वाले मुकेश कुमार से हुई। मुकेश शादी के वक्त यूपी में एक्साईज इंस्पेक्टर थे। लिहाजा शिखा शादी के बाद पति और उनके परिवार की सेवा करने यूपी चली गई। फिर उनके पति बिहार प्रशासनिक सेवा के अधिकारी बन गए। इसके बाद वे बिहार आ गई।

Special ladies desk at all police stations of Goa soon - Digital Goa

आप सबकुछ हासिल कर सकते हैं। आपको कड़ी मेहनत की ज़रूरत होती है। सही दिशा, लगन और चाह से व्यक्ति कहां नहीं पहुंच सकता इसी को चरितार्थ करती हैं शिखा

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...