HomeUncategorizedदुबई की नौकरी छोड़ लौट आए भारत, अब उगाते हैं 550 प्रकार...

दुबई की नौकरी छोड़ लौट आए भारत, अब उगाते हैं 550 प्रकार के फल, कमाई है लाखों में

Published on

हर कोई जीवन में निरंतर कामयाबी हासिल करना चाहता है। कई लोग नौकरी की तलाश में अपना पूरा जीवन लगा देते है। उन्हें नौकरी हासिल भी हो जाती है। लेकिन संतुष्टि नहीं मिलने के कारण वह नई मंजिल की तरफ रूख कर लेते है। कोझीकोड गांव के कपाटुमाला में रहने वाले विलियम मैथ्यूज ने पढ़ाई पूरी होने के बाद कई बिजनेस में हाथ आजमाया, लेकिन उनको सफलता नहीं मिली। फिर उन्होंने निर्णय लिया कि वह दुबई में जाकर नौकरी करेंगे।

सभी जीवन में कामयाबी का स्वाद जरुर चखना चाहते हैं लेकिन, कई बार अच्छी एजुकेशन और अथक प्रयास करने के बावजूद भी यह नहीं मिलती। वह काम की तलाश में दुबई चले गए। लेकिन वहां पर भी विलियम का मन नहीं लगा। आखिरकार साल 2010 में उन्होंने दुबई की नौकरी छोड़ दी। यहां पर विलियम ने एक नया काम शुरू किया।

दुबई की नौकरी छोड़ लौट आए भारत, अब उगाते हैं 550 प्रकार के फल, कमाई है लाखों में

समय बदलते ज़रा भी वक्त नहीं लगता है। आपको बुरे वक्त में बस कभी हिम्मत नहीं हारनी चाहिए। विलियम ने अपनी मेहनत से 10 साल के भीतर 550 किस्म के उष्णक टिबंधीय यानी ट्रॉपिकल फल उगाने में सफल रहे। इसके साथ ही उन्होंने नारियल की खेती और मछली पालन में भी हाथ आजमाया। वह मधुपालन भी करते है। आज के समय में विलियम का फलो का यह खेत पूरे केरल में काफी लोकप्रिय है। इन फलों के खेत का दौरा देशभर के विशेषज्ञ और शोधकर्ता करते है।

दुबई की नौकरी छोड़ लौट आए भारत, अब उगाते हैं 550 प्रकार के फल, कमाई है लाखों में

किसी भी इंसान को सफलता के लिए कड़ी मेहनत के साथ सबकुछ हासिल करने की राह पर निकलना पड़ता है। विलियम कहते है दुबई में मुझे नौकरी करने के दौरान अच्छे पैसे मिल रहे थे। लेकिन पता नहीं क्यो मुझे महसूस हो रहा था कि यह मेरी मंजिल नहीं है। मेरा जीवन वहां थम गया था। इसलिए मैने भारत आकर खेती करने का फैसला लिया। वह बताते है कि उन्होंने 30 किस्म के नीबू और 19 किस्म के खजूर और 7 तरह के अमरूद उगाए हुए है।

दुबई की नौकरी छोड़ लौट आए भारत, अब उगाते हैं 550 प्रकार के फल, कमाई है लाखों में

इंसान को कभी हार नहीं माननी चाहिए। आपका हौसला बुलंद होना चाहिए मुकाम तो मिल ही जाता है। आपको एकाग्रता के साथ लक्ष्य तक पहुंचना होता है। यह मायने नहीं रखता कि आप कहां से आते हैं।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...