Homeकभी-एक-एक पैसे को मोहताज थे बुमराह बचपन में खो दिया था पिता...

कभी-एक-एक पैसे को मोहताज थे बुमराह बचपन में खो दिया था पिता को, आज मचा रहे हैं बूम – बूम

Array

Published on

भारत के धारदार तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को कौन नहीं जानता। उनकी सफलता की कहानी हर किसी की ज़ुबान पर है। बुमराह अपनी खतरनाक गेंदबाजी के लिए जाने जाते हैं। 14 साल की उम्र में ही बुमराह ने ये फैसला कर लिया था कि वो क्रिकेट में अपना करियर बनाएंगे। इस खिलाड़ी का बपचन पिता के साए के बिना ही गुजरा है, जब वो 5 साल के थे तब ही उनके पिता चल बसे थे। बुमराह को उनकी मां और बड़ी बहन ने ही पाला पोसा बड़ा किया है।

आज जसप्रीत बुमराह के करोड़ों फैन्स हैं। उनकी गेंदबाज़ी के आगे बल्लेबाज़ घुटने टेक देते हैं। पिता के निधन के बाद जसप्रीत बुमराह का पारिवार आर्थिक रूप से कमजोर हो गया था। भारतीय टीम के इस गेंदबाज ने कभी एक जोड़ी टी-शर्ट और एक जोड़ी जूते में गुजारा किया है।

कभी-एक-एक पैसे को मोहताज थे बुमराह बचपन में खो दिया था पिता को, आज मचा रहे हैं बूम - बूम

कई युवाओं के लिए बुमराह आज प्रेरणा बने हुए हैं। भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल गेंदबाज़ों में बुमराह ने अपनी जगह बना ली है। कुछ सालों पहले मुंबई इंडियंस को दिए एक इंटरव्यू में बुमराह ने कहा था- ‘‘पिता को खोने के बाद हम कुछ भी जुटाने के काबिल नहीं थे। मेरे पास एक जोड़ी जूते थे। मेरे पास एक जोड़ी टी-शर्ट हुआ करती थी। मैं उन्हें हर दिन धोता था और बार-बार इस्तेमाल करता था।

कभी-एक-एक पैसे को मोहताज थे बुमराह बचपन में खो दिया था पिता को, आज मचा रहे हैं बूम - बूम

भारतीय टीम के स्टार तेज गेंदबाज बनने से पहले इस गेंदबाज ने काफी संघर्ष किया है। वह बताते हैं कि जब आप बच्चे होते हैं तो कभी-कभी ऐसी कहानियां सुनते हैं। जीवन में कई लोगों के साथ ऐसा होता है। उनके साथ भी हुआ। बुमराह ने बताया जब पहली बार मैं इसे आईपीएल में खेलते हुए देखी तो रोने लगी थी। इसने मुझे आर्थिक और शारीरिक रूप से भी संघर्ष करते देखा है। अपने बेटे को बड़े संघर्ष से पालने के बाद जब मैदान पर खेलते देखा था तब उन्हें अपने पति की याद आ गई थी।

कभी-एक-एक पैसे को मोहताज थे बुमराह बचपन में खो दिया था पिता को, आज मचा रहे हैं बूम - बूम

संघर्ष का समय बीत ही जाता है। आपको हमेशा सफलता के लिए तैयार होना चाहिए। कभी हार नहीं माननी चाहिए। समय बदलते कभी देर नहीं लगती है। आपको निरंतर सफलता के लिए प्रयास करते रहना चाहिए।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...