HomeIndiaकिसानों के साथ संवाद में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने...

किसानों के साथ संवाद में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने किया दिलचस्प खुलासा, बोले बहकावे में ना आए

Published on

तीन कृषि कानूनों के विरोध के बीच हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने उन्नतीशील किसानों के साथ संवाद के दौरान एक बेहद ही दिलचस्प बात कही। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने शुक्रवार को पंचकूला में राज्यभर के उन्नतिशील किसानों के साथ संवाद कर रहे थे। सीएम ने बताया कि उनके दिन की शुरुआत खेत खलिहान से ही होती है।


मनोहरलाल ने कहा, सुबह बिस्तर छोड़ने के बाद वह सीएम निवास पर बोई गई जैविक सब्जियों की देखभाल करने जाते हैं। उनमें पानी भी लगाते हैं। उसके बाद सैर और योग करते हैं। फिर उनकी बाकी दिनचर्या आगे बढ़ती है। उन्होंने तीन कृषि कानूनों का विरोध करने वालों को संदेश दिया है कि वह विपक्षी राजनीतिक लोगों के बहकावे में न आएं।

किसानों के साथ संवाद में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने किया दिलचस्प खुलासा, बोले बहकावे में ना आए

चंडीगढ़ स्थित मुख्यमंत्री आवास में इन दिनों जैविक सब्जियों की पैदावार हो रही है। इनमें खीरा, टमाटर, भिंडी, घिया, तोरई और करेले की सब्जियां शामिल हैं। बिना किसी खाद और कीटनाशक का प्रयोग किए यह सब्जियां उगाई जा रही हैं। उन्‍होंने कहा कि हरियाणा-दिल्ली बार्डर पर पिछले छह माह से किसान जत्थेबंदियों द्वारा तीन कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन किया जा रहा है।

हालांकि उन्नतीशील किसान इन कानूनों को किसी भी सूरत में किसानों के खिलाफ नहीं मानते, लेकिन फिर भी किसान जत्थेबंदियां आंदोलनरत हैं और तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की जिद पर अड़ी हैं।

मनोहर लाल ने कहा कि वे भी किसान के बेटे हैं। यदि उन्हें इन कानूनों में जरा भी कोई खामी नजर आती तो वह खुद आगे-आगे इन कानूनों का विरोध करते, मगर तीनों कृषि कानूनों की वजह से किसानों को आर्थिक सुरक्षा मिल रही है।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल रोहतक जिले के बनियानी गांव के रहने वाले हैं। वहां उनकी पुश्तैनी जमीन है, जहां वे खुद भी खेती करते रहे हैं। उन्होंने कालेज की पढ़ाई के दौरान खूब खेती की और फसल बेचने के लिए मंडी में भी स्वयं ही जाते रहे हैं। मुख्यमंत्री होते हुए भी खेती से उनका जुड़ाव कम नहीं हुआ है।

किसानों के साथ संवाद में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने किया दिलचस्प खुलासा, बोले बहकावे में ना आए


मैं आज भी जमीन से जुड़ा हुआ हूं’

” मैंने एक छोटे से किसान परिवार में जन्म लिया है। खेती भी की है और फसल-सब्जियों को मंडी में ले जाकर बेचा भी है। परमात्मा की कृपा से आज भी जमीन से उतना ही जुड़ा हुआ हूं। जैविक विधि से उत्पन्न सब्जियों की देखरेख करता हूं। मैं किसान का बेटा हूं और किसानों की वास्तविक जरूरत तथा तकलीफ समझता हूं, लेकिन यह भी सच है कि तीन कृषि कानूनों के विरोध को लेकर राजनीति ज्यादा हो रही है।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...