HomeFaridabadखोरी गांव में तोड़फोड़ को लेकर सड़क के बीचों-बीच धरने पर बैठी...

खोरी गांव में तोड़फोड़ को लेकर सड़क के बीचों-बीच धरने पर बैठी महिलाएं, प्रशासन से की है मांग

Published on

खोरी गांव में तोड़फोड़ को लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के बाद नगर निगम प्रशासन तथा फरीदाबाद प्रशासन के द्वारा भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है वही आज खोरी गांव की महिलाएं पुनर्वास को लेकर सड़क के बीचों-बीच बीच धरने पर बैठ गई।


पुनर्वास की मांग को लेकर खोरी में बैठी हुई महिलाएं महामारी में सरकार से सवाल पूछ रही है की बिना पुनर्वास के सरकार खोरी के परिवारों को बेदखल कर रही है जो कि इस महामारी में सरकार की ओर से खोरी गांव के लोगों को दिया गया मृत्यु दंड है।

खोरी गांव में तोड़फोड़ को लेकर सड़क के बीचों-बीच धरने पर बैठी महिलाएं, प्रशासन से की है मांग

स्थानीय निवासी सीता देवी ने बताया कि वह पिछले 15 साल से खोरी गांव में रह रही है। किसी भी प्रकार की सहायता करने वाला सीता के परिवार में कोई नहीं है ऐसे में महामारी में वह खुले आसमान के नीचे ही मर जाएगी जिसकी जिम्मेदार सरकार होगी।

ममता का कहना है कि उसके पति बेलदार का काम करते हैं और पिछले डेढ़ वर्ष से उनके परिवार में किसी भी प्रकार की कोई आमदनी नहीं हुई जिसकी वजह से मांग मांग कर वह अपना गुजारा कर रही है अब सरकार उसके साथ पुनर्वास न देकर अन्याय कर रही है ।

स्थानीय निवासी कल्पना बताती है कि वह पिछले 10 वर्ष से खोरी गांव में अपनी जिंदगी काट रही है । सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद व सरकार की तरफ टकटकी लगाए पुनर्वास की आस में देख रही है कि हरियाणा सरकार उसे इस महामारी और संकट के समय में जरूर राहत देगी । अभी भी उसको पूरी उम्मीद है किंतु सरकार मन है पुनर्वास के मुद्दे पर।

बंधुआ मुक्ति मोर्चा के महासचिव निर्मल गोराना ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने बेदखली के आदेश दिए हैं किंतु सरकार स्लम ड्वेलर्स को उनके पुनर्वास के अधिकार से वंचित कर रही है। सरकार को अपनी भूमिका पूर्ण संवेदनशीलता के साथ अदा करनी चाहिए जो कि उनका दायित्व है किंतु सरकार यदि अपने दायित्व से भागती है तो यहां पर सामाजिक न्याय का सरकार द्वारा ही गला घोटा जा रहा है।

खोरी गांव में तोड़फोड़ को लेकर सड़क के बीचों-बीच धरने पर बैठी महिलाएं, प्रशासन से की है मांग

सरकार को एक योजनाबद्ध तरीके से सुप्रीम कोर्ट के आदेश की पालना करनी चाहिए न कि तीव्र आवेश में आकर समाज के अंतिम पायदान पर खड़े इन खोरी गांव निवासियों पर प्रहार कर दिया जाए तो यह अन्याय होगा यदि उन्हें समुचित पुनर्वास न प्रदान किया जाए।


गिरफ्तार किए गए लोगों को किया गया रिहा
खोरी गांव के 15 लोगों को डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के तहत करीब 3 दिन पहले गिरफ्तार किया गया था जिन्हें आज जिला न्यायालय ने जमानत के साथ रिहा कर दिया है।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...