Homeएक वक्त की रोटी के लिए कभी भटकती थीं जंगल में, आज...

एक वक्त की रोटी के लिए कभी भटकती थीं जंगल में, आज 1200 महिलाओं को दे रहीं हैं रोजगार

Published on

एक कहावत है कि बुरे समय की सबसे अच्छी बात यह है कि वह भी कट जाता है। बुरे समय में कभी हार नहीं माननी चाहिए। ढलते सूरज के साथ खेत से गेहूं की कटाई करके वापस लौटीं आरती राना दरवाजे के सहारे खड़ी होकर बताती हैं, “पहले हम भी दिनभर जंगल में मछली पकड़ते थे, जलावन बीनते थे, ताकि शाम का चूल्हा जल सके। पर आज तो न जाने कहाँ-कहाँ से लोग हमारे घर का पता पूछकर हमसे मिलने आते हैं।

आज अपनी सफलता को उन्होंने अपने तक सिमित नहीं रखा है। 34 वर्षीय आरती राना मूलरूप से यूपी के सबसे बड़े जिले लखीमपुर खीरी जिला मुख्यालय से लगभग 100 किलोमीटर दूर पलिया ब्लॉक के गोबरौला गांव की रहने वाली हैं, इनका गांव थारूओं के 46 गांवों में से एक है। पलिया ब्लॉक के तराई क्षेत्र में नेपाल से सटे थारू समुदाय के 46 गांव हैं। इन्होंने अब तक अपने थारू समुदाय की 1200 से ज्यादा महिलाओं को रोजगार से जोड़ा हैं।

एक वक्त की रोटी के लिए कभी भटकती थीं जंगल में, आज 1200 महिलाओं को दे रहीं हैं रोजगार

लगन से की गई मेहनत कभी बेकार नहीं जाती। इसका उदाहरण हैं आरती। इन्हें साल 2016 में रानी लक्ष्मीबाई जैसे प्रतिष्ठित अवॉर्ड से भी नवाजा जा चुका है। इनके यहां का बना हैंडीक्राफ्ट उत्पाद देश के कई बड़े-बड़े शोरूम में बिकता है। तमाम विपरीत हालात को मात देकर आरती राना महिलाओं के लिए मिसाल साबित हुई हैं।

एक वक्त की रोटी के लिए कभी भटकती थीं जंगल में, आज 1200 महिलाओं को दे रहीं हैं रोजगार

महिलाओं को स्वावलंबी बनाने की दिशा में आदिवासी जनजाति थारू क्षेत्र के गोबरौला गांव की आरती राना ने हथकरघा का प्रशिक्षण लेने के बाद गांव की महिलाओं का समूह बनाकर उन्हें हथकरघा उद्योग के काम में दक्ष किया और आज वह हजारों महिलाओं को रोजगार दे चुकी हैं। इनके घर के बाहर एक दीवार में बड़े अक्षरों में पेंट से लिखा है, ‘थारू हथकरघा घरेलू उद्योग समूह’ गोबरौला, सहयोग- विश्व प्रकृति निधि भारत एवं टाईगर रिजर्व।

एक वक्त की रोटी के लिए कभी भटकती थीं जंगल में, आज 1200 महिलाओं को दे रहीं हैं रोजगार

आरती की मेहनत ने आज कई घरों में रोटी की समस्या को समाप्त कर दिया है। आज गांव वाले ही नहीं बल्कि देशभर से लोग उनसे मिलने आते हैं। कड़ी मेहनत के दम पर इन्होनें यह मुकाम हासिल किया है।

Latest articles

भारत में अब ड्रोन टेक्नोलॉजी से होगा एग्रीकल्चर, 50 प्रतिशत तक नुकसान होगा कम

प्रमुख ड्रोन डिलीवरी लॉजिस्टिक्स प्रदाता ने एक नई स्टडी रिपोर्ट लॉन्च करते हुए कहा...

Faridabad के स्कूलों के ड्रेसकोड में हुआ बदलाव, अब से ये पहनकर स्कूल जाएंगे छात्र

शहर में बढ़ते हुए डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया के प्रकोप को देखते हुए शिक्षा...

Faridabad की ये बेटी चीन में लहराएगी देश का परचम, यहां जानें कौन है वो बहादुर बेटी

हमारे देश के बेटे और बेटियों की बात ही कुछ ओर हैं, वह देश...

Faridabad की इस विधानसभा की 20 सड़कें होगी दुरूस्त, जनता को मिलेगी सहूलियत

शहर के जो लोग तिगांव क्षेत्र की टूटी हुई सड़कों से तंग हैं, ये...

More like this

भारत में अब ड्रोन टेक्नोलॉजी से होगा एग्रीकल्चर, 50 प्रतिशत तक नुकसान होगा कम

प्रमुख ड्रोन डिलीवरी लॉजिस्टिक्स प्रदाता ने एक नई स्टडी रिपोर्ट लॉन्च करते हुए कहा...

Faridabad के स्कूलों के ड्रेसकोड में हुआ बदलाव, अब से ये पहनकर स्कूल जाएंगे छात्र

शहर में बढ़ते हुए डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया के प्रकोप को देखते हुए शिक्षा...

Faridabad की ये बेटी चीन में लहराएगी देश का परचम, यहां जानें कौन है वो बहादुर बेटी

हमारे देश के बेटे और बेटियों की बात ही कुछ ओर हैं, वह देश...