Homeपिता को वर्दी में देखकर मिलती थी प्रेरणा, कांस्टेबल के बेटे ने...

पिता को वर्दी में देखकर मिलती थी प्रेरणा, कांस्टेबल के बेटे ने कड़ी मेहनत से पास की UPSC परीक्षा

Published on

प्रेरणा आपको कहीं से भी मिल जाती है। घर में प्रेरणा की मूरत रहती है जिसे हम पिता कहते हैं। तेलंगाना में जब 2017 में एक पुलिस कांस्टेबल के बेटे ने यूपीएससी की परीक्षा पास की थी तब उनकी काफी चर्चा हुई थी। उस वक्त 23 साल के अक्षय कुमार ने पहली ही अटेम्प्ट में यूपीएससी की परीक्षा में 623 वा रैंक हासिल किया था।

संघर्ष कर सफलता हासिल करने वाले बहुत से लोगों के बारे में हमने आपको बताया है। परीक्षा पास करना अक्षय के लिए किसी सपने के पूरे होने से कम नहीं था। अक्षय कुमार अपने पिता को देख कर ही पले – बड़े थे। उनके पिता उस वक्त ममनूर के असिस्टेंट कमिश्नर ऑफ पुलिस के कार्यालय में तैनात थे।

पिता को वर्दी में देखकर मिलती थी प्रेरणा, कांस्टेबल के बेटे ने कड़ी मेहनत से पास की UPSC परीक्षा

यूपीएससी परीक्षा पास करने के लिये सभी दम लगाकर मेहनत करते हैं। बिना मेहनत के इसमें कुछ हासिल नहीं होता है। अक्षय के पिता ने कहा था कि सचमुच यह हम सभी के लिए गर्व की बात है। हमें हमेशा से ही इस पल का इंतजार था हम सभी युवा कि उसकी सफलता से बेहद खुश हैं। अक्षय का सपना था कि वह एक आईपीएस अफसर बने मां बाप के बड़े बेटे अक्षय कुमार वारंगल आने के बाद सिविल सर्विस परीक्षा की तैयारी करने के लिए हैदराबाद आ गए थे।

पिता को वर्दी में देखकर मिलती थी प्रेरणा, कांस्टेबल के बेटे ने कड़ी मेहनत से पास की UPSC परीक्षा

उनके घर में चारों तरफ ख़ुशी का माहौल था। उन्होंने कड़ी मेहनत से इस मुकाम को हासिल किया था। अक्षय ने आईआईटी भोपाल से केमिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन किया था। ग्रेजुएशन करने के बाद अक्षय नहीं यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी थी। अक्षय अपने फिसिस्क्स के शिक्षक से भी काफी प्रभावित थे। आईपीएस अफसर बनने के बाद अक्षय कुमार ने एक साक्षात्कार में कहा था कि उनके पिता परिवार को चलाने के लिए कड़ी मेहनत करते थे।

Akshay Kumar IPS - Home | Facebook

हमें किसी भी लक्ष्य तक पहुंचने के लिए फोकस नहीं छोड़ना होता है। अगर फोकस छोड़ा तो लक्ष्य छूट जाता है। अक्षय ने पूरा फोकस अपने लक्ष्य पर रखा और सफलता उन्हें मिली।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...