HomePoliticsकिसान आंदोलन में शहीद के नाम पर भेंट चढ़ा व्यक्ति को तेल...

किसान आंदोलन में शहीद के नाम पर भेंट चढ़ा व्यक्ति को तेल छिड़ककर लगाई आग, हुई मौत

Published on

किसान आंदोलन में भाग लेने वाले एक व्यक्ति को शहीद होने का हवाला देते हुए आग के हवाले कर दिया गया। यह पूरी घटना बहादुरगढ़ के बाईपास पर गांव का कसार के निकट की हैं, जिसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। दरअसल एक व्यक्ति जिसे तेल छिड़ककर यह कह कर आग लगा दी गई, कि वह किसान आंदोलन में खुद को शहीद कर सकता है। ऐसे में गंभीर रूप से झुलसे व्यक्तियों को जब कुछ अस्पताल ले जाया गया तो वहां कुछ घंटे बाद ही उसे डॉक्टरों द्वारा मृत घोषित कर दिया गया।

जानकारी के मुताबिक आंदोलन में शहीद होने का नाम देकर कसार निवासी मुकेश पर तेल छिड़का गया और फिर आग लगाई गई। इससे पहले उसे शराब भी पिलाई गई। मृतक के भाई के बयान पर पुलिस ने मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। हत्यारोपी अभी फरार है। पुलिस का दावा है कि आरोपी को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। हत्या के कारणों का स्पष्ट पता नहीं चल पाया है।

किसान आंदोलन में शहीद के नाम पर भेंट चढ़ा व्यक्ति को तेल छिड़ककर लगाई आग, हुई मौत

पुलिस को दी शिकायत में गांव कसार निवासी मदन लाल पुत्र जगदीश ने बताया कि उसका भाई मुकेश बुधवार शाम घर से घूमने के लिए निकला था और गांव के साथ ही बैठे किसान आन्दोलनकारियों के पास पहुंच गया। उन्हें टेलीफोन से पता चला कि आपके भाई पर आन्दोलनकारियों ने जान से मारने की नीयत से तेल छिड़ककर आग लगा दी। वह तुरंत अपने गांव के पूर्व सरपंच टोनी को लेकर मौके पर पहुंचा तो देखा भाई मुकेश गंभीर रूप से झुलसा हुआ था। उसे तुरंत सिविल अस्पताल लेकर आए।

वहां उपचार के दौरान मुकेश ने बताया कि आंदोलन में एक व्यक्ति ने जिसका नाम कृष्ण है और सफेद कपड़े पहने हुए था, उसने पहले मुकेश को शराब पिलाई और फिर उसे आग लगा दी। इससे वह बुरी तरह झुलस गया। सिविल अस्पताल में गंभीर रूप से झुलसे मुकेश को चिकित्सकों ने रेफर कर दिया, मगर परिजन उसे ब्रह्मशक्ति संजीवनी अस्पताल लेकर गए जहां उपचार के दौरान रात को ही उसकी मौत हो गई।

किसान आंदोलन में शहीद के नाम पर भेंट चढ़ा व्यक्ति को तेल छिड़ककर लगाई आग, हुई मौत

ग्रामीण डीसी व एसपी काे माैके पर बुलाने की मांग का रहे थे। ग्रामीणों ने डीसी को ज्ञापन सौंपकर गांव में सुरक्षा बढ़ाने की मांग के साथ किसानों की झोपड़ियों को गांव से 4 किलोमीटर दूर ले जाने की मांग की। मृतक परिवार से किसी एक को सरकारी नौकरी व बेटे की शिक्षा के साथ आर्थिक सहायता व परिवार को सुरक्षा दिलाने की मांग की गई। डीसी श्याम लाल पुनिया ने मांगें सरकार तक पहुंचा देंगें।

इस मौके पर पूर्व विधायक नरेश कौशिक ने कहा कि बहादुरगढ़ में उद्योग धंधों व व्यापार को मिट्टी में मिलाने वाले बहादुरगढ़ के युवाओं को मुफ्त शराब व नशे की गिरफ्त में डाल वाले आंदोलनकारियों के बीच में बैठे असामाजिक तत्वों को पहचान कर उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए। बाहरी आंदोलनकारी तुरंत प्रभाव से बहादुरगढ़ को छोड़ दे

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...