Homeरिलायंस इंडस्ट्रीज के वाइस प्रेसिडेंट ने छोड़ी लाखों रुपए की नौकरी, अब...

रिलायंस इंडस्ट्रीज के वाइस प्रेसिडेंट ने छोड़ी लाखों रुपए की नौकरी, अब इस वजह से बन गए हैं सन्यासी

Published on

हर किसी को अपने जीवन में सुख और खुशियां चाहिए होती हैं। कभी – कभी सुख और ख़ुशी तो होती है लेकिन आंतरिक ख़ुशी नहीं मिल पाती। व्यक्ति अपने जीवन को आरामदायक के लिए जिंदगी भर मेहनत करता है। तमाम तरह की सुख सुविधाएं बटोरता है। लेकिन कई बार उन्हीं सुख सुविधाओं को अचानक से त्याग देते है।

किसी के मन में क्या चल रहा है यह कहना बहुत ही कठिन है। इसका जवाब किसी के पास नहीं होता है। आईआईटी बॉम्बे से केमिकल इंजीनियरिंग से ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएट करने वाले एवं रिलायंस इंडस्ट्रीज के वाइस प्रेसिडेंट रह चुके प्रकाश शाह अब सन्यासी बन गए हैं। दुनिया की मोह-माया को छोड़कर अब वे भिक्षा मांग कर अपनी जिंदगी गुजारेंगे।

रिलायंस इंडस्ट्रीज के वाइस प्रेसिडेंट ने छोड़ी लाखों रुपए की नौकरी, अब इस वजह से बन गए हैं सन्यासी

उनके इस कदम से सभी हैरान हैं। किसी को यकीन नहीं हो रहा है। उनकी ज़िंदगी काफी बढ़िया चल रही थी। पिछले साल ही रिलायंस के वाइस प्रेसिडेंट के पद से रिटायर हुए थे। वे बहुत अच्छी सैलरी पा रहे थे, लेकिन अब वे सारे सांसारिक बंधनों से मुक्त होकर एक भिक्षुक की तरह जीवन जिएंगे। उन्होंने एक जैन मुनि से दीक्षा ली है।

रिलायंस इंडस्ट्रीज के वाइस प्रेसिडेंट ने छोड़ी लाखों रुपए की नौकरी, अब इस वजह से बन गए हैं सन्यासी

प्रकाश के पास किसी चीज़ की कमी नहीं थी। हर ख़ुशी उनके पास थी। गृहस्थ जीवन को त्याग कर सन्यासी बनने के प्रकाश के इस फैसले में उनकी पत्नी नैना ने भी बराबर का साथ दिया। दोनों ने मुंबई में जैन धर्म के अनुसार दीक्षा ली। अब वे दोनों सादे कपड़े पहनेंगे और भिक्षा में मिले भोजन पर गुजारा करेंगे। बताया जाता है कि प्रकाश शाह पहले ही दीक्षा लेना चाहते थे, लेकिन महामारी की वजह से उनकी यह योजना एक साल के लिए टल गई थी।

Reliance industries : धक्कादायक! रिलायन्सचे उपाध्यक्ष, प्रकाश शाह यांनी  घेतला सन्यास, यापुढे भिक्षा मागून घालवणार आयुष्य

जैसा हम सोचते हैं किसी की ज़िंदगी के बारे के अक्सर वह ख्याल झूठे निकल आते हैं। प्रकाश के सबकुछ था लेकिन फिर भी उन्होंने अपनी राह अलग चुनी। हमें निरंतर अच्छे कर्म करने चाहिए।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...