Homeइस किसान ने कड़ी मेहनत से बदली अपनी किस्मत, डेढ़ एकड़ में...

इस किसान ने कड़ी मेहनत से बदली अपनी किस्मत, डेढ़ एकड़ में ऐसे कमा रहे पांच एकड़ खेती से ज्यादा मुनाफा

Published on

किसानों को पिछले कुछ वर्षों के दौरान खेती-बाड़ी में मोटा मुनाफा होने लगा है। किसान को अब अपनी मेहनत के दाम मिलने लगे हैं। छोटी जोत वाले किसानों को प्रगतिशील किसान राजकुमार सैनी से सीख लेनी चाहिए। मात्र डेढ़ एकड़ जमीन में बागवानी व सब्जी की फसल लेकर इतना कमा लेते हैं, जितना पांच एकड़ जमीन में गेहूं, धान व कपास की फसल उगाने वाला किसान नहीं कमा पाता।

आइडिया आपको कहीं से भी मिल सकता है। बस आपको उस आइडिया पर काम करने की ज़रूरत होती है। जींद के किसान राजकुमार सैनी डेढ़ एकड़ जमीन में आलूबुखारा व आड़ू का बाग लगा रखा है। पौने किला जमीन में आलूबुखारा व पौना किला में आड़ू का बाग है। आलूबुखारा वाले बाग में दस पेड़ माल्टा व दो लाइन में नींबू के पेड़ भी हैं। इस बार लॉकडाउन में आलूबुखारा का बाग करीब सवा लाख रुपये में बिक गया और करीब दस हजार में माल्टा की फसल बिकी।

खेतों में हल्दी के पौधों की देखभाल करते किसान राजकुमार सैनी।

अगर किसी चीज़ में कभी – कभी कुछ बदलाव किये जाएं तो यह हमें बहुत फायदा देता है। अब यह सर्दी आते ही आलूबुखारा के पौधों के बीच मेथी की फसल ले लेंगे। नींबू भी हर साल सात-आठ हजार रुपये का बिक जाता है। देशभर में अब यह सोच समाप्त होने लगी है कि खेती – बाड़ी बस नुकसान का सौदा है। यह एक पॉजिटिव बात है।

इस किसान ने कड़ी मेहनत से बदली अपनी किस्मत, डेढ़ एकड़ में ऐसे कमा रहे पांच एकड़ खेती से ज्यादा मुनाफा

वर्तमान में अनेकों युवा खेती की तरफ अपना रुझान दिखा रहे हैं। आज अनेकों लोग खेती कर अपने सपनों को पूरा कर रहे हैं। आड़ू के बाग के बारे में राजकुमार बताते हैं कि अब इस बाग में आंधी के कारण कई पौधे टूट गए हैं। चार साल पहले जब पौने किलो में आड़ू के पौधे पूरी तरह लहलहा रहे थे, तब 1.80 लाख रुपये में बेचा था। इस बार लॉकडाउन में 90 हजार रुपये का आड़ू बिक गया। आड़ू बिकते ही नीचे हल्दी व अरबी की फसल लगा दी।

इस किसान ने कड़ी मेहनत से बदली अपनी किस्मत, डेढ़ एकड़ में ऐसे कमा रहे पांच एकड़ खेती से ज्यादा मुनाफा

खेती करना इतना आसान नहीं है लेकिन फिर भी आज अनेकों लोग इसी क्षेत्र में अपनी किस्मत को आजमा रहे हैं। जब मन कुछ और करना चाहता है तो उसी की तरफ आपका दिमाग भी दौड़ता है। इस किसान ने भी यही कर दिखाया है।

Latest articles

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

More like this

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...