HomeGovernmentखोरी बस्ती में चलें पीले पंजे से सैकड़ों का जीवन हुआ तितर...

खोरी बस्ती में चलें पीले पंजे से सैकड़ों का जीवन हुआ तितर बितर, खाने के मोहताज हुए लोग

Published on

फरीदाबाद के अंतर्गत आने वाले खोरी गांव में चलें पीले पंजे के बाद अब लोग खाने और रहने दोनों के लिए मोहताज हो गए हैं। खोरी गांव में किराए पर रह रहे लोग यहां से कमरे खाली करने के लिए मजबूर हो चुके हैं। कुछेक लोगों का कहना है कि जब किराया ही देना है तो डर-डर कर क्यों रहें। पर अब क्वेश्चन यह खड़ा हो गया है कि बचाएं या कमाएं-खाएं। वहीं महिलाएं भी अब प्रशासनिक लड़ाई का मोर्चा संभाल रही है।

वही अपना मकान होने के बावजूद भी हालत किराएदार से भी बदतर हो गई है। लोगों का कहना है कि मकान मालिक होने के बावजूद भी आज अपने बनाए हुए मकान है फिर भी उनके पास कोई दूसरा रास्ता नहीं दिख रहा है। शुक्रवार के दृश्य की बात करें तो खोरी गांव की गलियां सूनी सूनी दिखाई दे रही थी। वहीं अब तो गांव में पुरुषों की संख्या देखने को अब नहीं मिलती।

खोरी बस्ती में चलें पीले पंजे से सैकड़ों का जीवन हुआ तितर बितर, खाने के मोहताज हुए लोग

लोगों का कहना है कि एक तो दिन प्रतिदिन ऐसे ही आग का गोला मानों जमीन पर आग के लपटें फेंक रहा है। इधर तेज़ धूप में बच्चों को संभालना अब मुश्किल हो चला है। लोगों की परेशानी को दुगुना करने के लिए गांव में लाइट तक काट दी गई है।

खोरी बस्ती में चलें पीले पंजे से सैकड़ों का जीवन हुआ तितर बितर, खाने के मोहताज हुए लोग

घर में खाने के लिए अनाज नही बचा है। ऐसे में हम अपने घर को बचाएं या बच्चों का पेट भरें। गांव के पुरुष दिहाड़ी मजदूरी पर जाने लगे हैं। रोजाना की छोटी मोटी कमाई ही यह तय करती है कि आज खाना मिलेगा या नहीं।

लोगों का मानना है कि पुलिस जब चाहे उन्हें जेल में डाल देगी। छोटे बच्चों को भी अब बाहर जाने की मनाही है। खोरी गांव में ज्यादातर लोग दूसरे राज्यों के हैं। आर्थिक रूप से कमजोर लोग अब ये तय नही कर पा रहे हैं कि आगे क्या करना चाहिए। रोजमर्रा की चीजों को लाने के लिए भी लोग उन रास्तों से गांव के बाहर जा रहे हैं जहां पुलिस की मौजूदगी नही है।

खोरी बस्ती में चलें पीले पंजे से सैकड़ों का जीवन हुआ तितर बितर, खाने के मोहताज हुए लोग

इसके लिए सबसे सुरक्षित रास्ता वे दिल्ली की तरफ का मान रहे हैं। गांव के लोग हरियाणा पुलिस को देखकर डर रहे हैं जबकि दिल्ली पुलिस से उन्हें कोई भय नही है।

Latest articles

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

More like this

NIT क्षेत्र में पानी की किल्लत के समाधान को लेकर FMDA के CEO से मिले विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 29 मई 2024 को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने फरीदाबाद...

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...