HomeFaridabadनियमों का करे सख्ती से पालन नहीं, तो अगले 2 महीने में...

नियमों का करे सख्ती से पालन नहीं, तो अगले 2 महीने में भारत में भी दस्तक दे सकती है तीसरी लहर

Published on

जून के महीने में महामारी की दूसरी लहर में तो कमी देखने को मिल रही है। लेकिन सरकार के द्वारा अनलॉक करने के बाद से लोगों ने महामारी के नियमों का पालन करना बंद कर दिया है। जिसके चलते ऐसा लगता है कि 6 से 8 हफ्ते या फिर यूं कहें अगले 2 महीने में भारत में तीसरी लहर भी दस्तक दे सकती है।

एम्स के चीफ रणदीप गुलेरिया के अनुसार जून में महामारी की जो दूसरी लहर थी उसमें तो कमी देखी जा रही है लेकिन लोगों पहली और दूसरी लहर से अभी सबक नहीं लिया है। इसलिए वह अनलॉक होते ही महामारी के नियमों का पालन करना बंद कर दिया है।

नियमों का करे सख्ती से पालन नहीं, तो अगले 2 महीने में भारत में भी दस्तक दे सकती है तीसरी लहर

बाजारों से लेकर सड़कों पर लोगों की भीड़ देखने को मिलती है। उनके द्वारा ना तो मास्क का प्रयोग किया जा रहा है और ना ही सोशल डिस्टेंसिंग का। जिसके कारण ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है कि आने वाले 2 महीने में तीसरी लहर भारत में दस्तक दे देगी।

नियमों का करे सख्ती से पालन नहीं, तो अगले 2 महीने में भारत में भी दस्तक दे सकती है तीसरी लहर

उन्होंने कहा कि दूसरी नहर में अस्पतालों में बेड की कमी के साथ-साथ ऑक्सीजन की कमी भी देखने को मिली थी। उसके बाद ही सरकार के द्वारा महामारी को कंट्रोल करने के लिए सभी राज्यों में सख्ती से नियमों की पालना करने के लिए आदेश दिए गए थे। लेकिन अब उन्हीं नियमों मेंढिलाई बरती जा रही है।

नियमों का करे सख्ती से पालन नहीं, तो अगले 2 महीने में भारत में भी दस्तक दे सकती है तीसरी लहर

अगर हम महामारी के आंकड़ों की बात करें तो दुनिया भर में करीब 40 लाख लोगों की महामारी के चलते हैं जान गई है। जिसमें से 50% भारत, अमेरिका, ब्राजील, रूस और मेक्सिको शामिल है। उन्होंने बताया कि 16 जनवरी से देशभर में वैक्सीन की प्रक्रिया को शुरू किया गया था। जिसमें से अभी तक सिर्फ 27 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाई गई है। अगर हम सैंपल की बात करें तो महामारी जब से शुरू हुई है तब से लेकर अब तक करीब 40 करोड़ लोगों के सैंपल लिए जा चुके हैं।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...