HomeFaridabadटीकाकरण के बाद ऑब्जर्वेशन रूम में नहीं रुक रहे लोग, जानकारी का...

टीकाकरण के बाद ऑब्जर्वेशन रूम में नहीं रुक रहे लोग, जानकारी का है अभाव

Published on

डॉक्टर्स ने टीकाकरण के बाद लोगों को आधे घण्टे तक ऑब्जर्वेशन रूम में रहने की हिदायत दी है जिससे अगर उनके शरीर पर टीकाकरण के बाद कोई बुरा प्रभाव पड़ता है तो वे जल्दी ही उसका इलाज कर सकें। लेकिन इन दिनों स्थिति बिल्कुल अलग है। विभागीय सुविधा होने के बावजूद टीकाकरण के बाद लोग सीधे अपने घर जा रहे हैं।

हाल ही में एक घटना की पुष्टि की गई है जिसमें टीकाकरण के बाद एलर्जी से एक बुजुर्ग की मृत्यु हो गई। लेकिन इसके बावजूद लोग लापरवाही कर रहे है।

टीकाकरण के बाद ऑब्जर्वेशन रूम में नहीं रुक रहे लोग, जानकारी का है अभाव

जिला स्वास्थ्य विभाग ने बी.के. सिविल अस्पताल में 18 से 44 और 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को टीकाकरण की सुविधा मुहैया करवाई है। वहीं, पड़ोसी जिलों के लोग भी टीकाकरण के लिए बी.के. पहुंच रहे हैं।

लोगों का कहना है कि टीकाकरण के बाद उनके शरीर पर इसका कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ रहा। इसलिए टीकाकरण केंद्र पर रुकने का कोई फायदा नहीं है। दूसरी ओर लोग टीकाकरण को लेकर भ्रमित है। कंपनियों में भी काम करने के लिए टीकाकरण को अनिवार्य कर दिया गया है।

टीकाकरण के बाद ऑब्जर्वेशन रूम में नहीं रुक रहे लोग, जानकारी का है अभाव

डॉ. मनोज भारद्वाज, बृहस्पतिवार को बी.के. सिविल अस्पताल के टीकाकरण प्रतीक्षा केंद्र में तैनात थे। उन्होंने बताया कि एक व्यक्ति के टीकाकरण में लगभग 2 मिनट का समय लगता है। सभी महत्वपूर्ण जानकारियां देने के बाद उन्हें ऑब्जरवेशन रूम में रहने के लिए कहा जाता है। हालांकि अधिकतर लोग टीकाकरण के बाद सीधे अपने घरों को रवाना हो जाते हैं।

टीकाकरण के बाद ऑब्जर्वेशन रूम में नहीं रुक रहे लोग, जानकारी का है अभाव

जानकारी का अभाव

गुरुवार को गुरुग्राम से टीकाकरण के लिए बी.के. पहुंचे 45 वर्षीय सर्वेश ने बताया कि टीकाकरण के दौरान किसी भी कर्मचारी ने इसके साइड इफेक्ट या प्रतीक्षा को लेकर ज्यादा जानकारी नहीं दी। 36 वर्षीय विष्णु ने बताया कि वह भी यहां टीकाकरण के लिए आए हैं और स्वास्थ्य विभाग की ओर से टीकाकरण के बाद प्रतीक्षा करने पर कोई ज्यादा जानकारी नहीं दी गई। ऐसे में यहां बैठना समय की बर्बादी लगती है।

टीकाकरण के बाद ऑब्जर्वेशन रूम में नहीं रुक रहे लोग, जानकारी का है अभाव

डॉ. रणदीप सिंह पुनिया का कहना है कि टीकाकरण को लेकर लोगों के बीच काफी जागरुकता फैलाई जा रही है। लोगों को इससे संबंधित सभी जानकारियां दी जा रही हैं। उन्होंने आगे कहा कि टीकाकरण के साथ ऑब्जर्वेशन रूम में आधे घंटे साइड इफेक्ट या शरीर में महसूस होने वाली परेशानी को ऑब्जर्व करना बेहद जरूरी है। इस दौरान अगर किसी भी प्रकार की परेशानी होती है तो स्वास्थ्य विभाग तुरंत संज्ञान लेता है। हालांकि अभी तक ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया।

Latest articles

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...

पुलिस का दुरूपयोग कर रही है भाजपा सरकार-विधायक नीरज शर्मा

आज दिनांक 26 फरवरी को एनआईटी फरीदाबाद से विधायक नीरज शर्मा ने बहादुरगढ में...

More like this

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

नृत्य मेरे लिए पूजा के योग्य है: कशीना

एक शिक्षक के रूप में होने और MRIS 14( मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल सेक्टर...

महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस पर रक्तदान कर बनें पुण्य के भागी : भारत अरोड़ा

श्री महारानी वैष्णव देवी मंदिर संस्थान द्वारा महारानी की प्राण प्रतिष्ठा दिवस के...