HomeGovernmentमॉनसून आते ही यह वर्ग हो जाता है बेरोजगार, पूरे साल करते...

मॉनसून आते ही यह वर्ग हो जाता है बेरोजगार, पूरे साल करते हैं कड़ी मेहनत

Published on

लॉकडाउन के बाद अब दूसरी परेशानी मजदूरों को मानसून आने के कारण हो रही है। मानसून ने जैसे ही प्रदेश में दस्तक दी वैसे ही अब मजदूर पलायन कर रहे हैं। ईट के भट्टों पर काम करने वाले गरीब मजदूर पूरे साल भर मेहनत करते हैं और मानसून आने पर वह बेरोजगार हो जाते हैं।

मानसून आने पर अगर कोई वर्ग प्रभावित होता है तो वह मजदूर वर्ग है। दरअसल इस बार मॉनसून जल्द ही प्रदेश में आएगा और जिससे ईट भट्टों पर काम करने वाले मजदूर वर्ग को प्रभावित करेगा। आपको बता दें की इन मजदूरों के पास आय का कोई दूसरा साधन नहीं है तो वह किस तरीके से अपने परिवार का भरण पोषण करेंगे।

मॉनसून आते ही यह वर्ग हो जाता है बेरोजगार, पूरे साल करते हैं कड़ी मेहनत

हमने इस संदर्भ में भट्टे के मालिक से बात की उन्होंने बताया की बारिश के कारण सभी कच्ची ईंट जो कि मजदूरों द्वारा बनाई जाती है। वह खराब हो जाती हैं। मुंशी जो कि भट्टे पर ही हिसाब किताब देखते हैं वह कच्ची ईंटों की गिनती करते हैं। अगर गिनती करने से पहले बारिश आ जाती है और सारी ईटें खराब हो जाती हैं तो वह मजदूरों की खराब होंगी।

और उन्हें दोबारा से ईट बनानी पड़ेगी। इसलिए हम नहीं चाहते कि उनकी सारी मेहनत खराब जाए और उन्हें एक 1 महीने की सैलरी के साथ मॉनसून रहने तक अपने गांव भेज दिया जाता है। जैसा कि आपको पता है की भट्टों पर काम करने वाले मजदूर अब घर की ओर रवाना हो रहे हैं।

मॉनसून आते ही यह वर्ग हो जाता है बेरोजगार, पूरे साल करते हैं कड़ी मेहनत

बिहार निवासी सतीश ने बताया की अब जैसे जैसे बारिश शुरू होगी वैसे वैसे हमारा जो काम है वह खत्म हो जाएगा। जिसके चलते हम बेरोजगारी की कगार पर आ जाएंगे। और हमने पहले ही काफी सारी ईट बनाने का काम कर लिया है। जो भी व्यक्ति मकान बनाना चाहता है उसे ईटों की कमी नहीं होगी।

वहीं रवि ने कहा कि यहां मालिक ने हमारा पूरे साल लॉकडाउन में भी साथ दिया है। अब जब मानसून आ रहा है और ईट के भट्टे बंद हो जाएंगे तो हम उससे सैलरी लेकर व अपनी मजदूरी लेकर बोझ नहीं बनना चाहते इसलिए आज हम कुछ ही समय में आने वाली रेल से अपने निवास छत्तीसगढ़ के लिए रवाना हो जाएंगे।

Latest articles

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती – रेणु भाटिया (हरियाणा महिला आयोग की Chairperson)

मैं किसी बेटी का अपमान बर्दाश्त नहीं कर सकती। इसके लिए मैं कुछ भी...

More like this

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है: कशीना

भगवान आस्था है, मां पूजा है, मां वंदनीय हैं, मां आत्मीय है, इसका संबंध...

भाजपा के जुमले इस चुनाव में नहीं चल रहे हैं: NIT विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा

एनआईटी विधानसभा-86 के विधायक नीरज शर्मा ने बताया कि फरीदाबाद लोकसभा सीट से पूर्व...